लखनऊ: ‘योगीराज’ में गोरखपुर का दिव्यांग दर-दर की ठोकर खाने को मजबूर

डीएन संवाददाता

गोरखपुर के दिव्यांग बृजेश तिवारी तीन दिन से साइकिल चलाकर अपनी पत्नी के इलाज के लिए आर्थिक मदद की मांग को लेकर जब सीएम के जनता दरबार पहुंचे तो वहां उन्हें मदद की जगह निराशा हाथ लगी। डाइनामाइट न्यूज़ की ये रिपोर्ट..


लखनऊ: यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के संसदीय क्षेत्र गोरखपुर का निवासी दिव्यांग बृजेश तिवारी अस्पताल में भर्ती अपनी पत्नी के इलाज के खातिर सीएम से कुछ मदद की आस लिये योगी से मिलने लखनऊ आए लेकिन सीएम से उनकी मुलाकात नहीं हो सकी और उनका प्रार्थना पत्र जमा कर लिया गया। बृजेश गोरखपुर के चौरी-चौरा विधानसभा के ग्राम बरगदवां के रहने वाले हैं। बृजेश ने बताया कि गांव में उनके पास कोई खेती की जमीन भी नहीं है। वे गांव में एक कच्चे मकान में ही अपनी पत्नी के साथ गुजारा करते हैं। 

दिव्यांग बृजेश ने डाइनामाइट न्यूज़ से बात कर सीएम तक अपनी आवाज पहुचांने की अपील की।

यूपी के डिप्टी सीएम केशव मौर्या पर लगाया मदद न करने का आरोप

डाइनामाइट न्यूज़ को दिव्यांग बृजेश ने बताया कि उन्होंने डिप्टी सीएम केशव मौर्या से अपनी मदद करने की गुहार लगाई और जयपुर के एक निजी अस्पताल मे भर्ती पत्नी के इलाज के लिये कुछ आर्थिक मदद की मांग की लेकिन उन्होंने बिना कुछ कहे चुपचाप एप्लीकेशन ले लिया। साथ ही उन्होंने बृजेश को चौरी-चौरा विधायक गीता यादव से मिलने को कह अपना पल्ला झाड़ लिया।

दिव्यांग बृजेश तिवारी

मदद न मिलने से नाराज दिव्यांग ने दी आत्महत्या की धमकी

आर्थिक मदद न मिलने से नाराज दिव्यांग बृजेश ने कहा कि यदि उसकी मदद न की गई तो वह आत्महत्या कर लेगा। तब शायद सरकार उसकी पत्नी की मदद कर दे। इस दिव्यांग की व्यथा से हमारे सिस्टम पर सवाल उठता है?

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार