जानिए, पूर्व आईएएस अधिकारि‍यों ने सीएम योगी आदित्यनाथ से क्यों मांगा इस्तीफा

डीएन ब्यूरो

लगभग 83 रिटायर्ड नौकरशाहों ने बुलंदशहर हिंसा के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इस्तीफा मांगा है। डाइनामाइट न्यूज की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट में पढ़ें क्या है पूरा मामला..

सीएम योगी (फाइल फोटो)
सीएम योगी (फाइल फोटो)

लखनऊ: बुलंदशहर में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह समेत 2 लोगों की हत्या के मामले में जांच की दिशा मोड़ने से नाखुश 83 रिटायर्ड ब्यूरोक्रेट्स ने सीएम योगी आदित्यनाथ से इस्तीफे की मांग की है। पूर्व अधिकारियों ने खुला खत लिखकर इस्तीफा मांगा है। अपने खुले खत में रिटायर्ड अफसरों का कहना है कि योगी आदित्यनाथ ने बुलंदशहर हिंसा को गंभीरता से नहीं लिया। इसके अलावा वह सिर्फ गोकशी केस पर ध्यान दे रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: लखनऊ: बुलंदशहर हिंसा में मारे गए सुमित के परिजनों ने सीएम योगी से की मुलाकात 

इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह (फाइल फोटो)

आपको बता दें कि पूर्व अधिकारियों का यह बयान तब सामने आया जब एसआईटी ने जांच पूरी कर ली है, जांच में खुलास हुआ है घटना से गौकशी हुई थी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का इस्तीफा मांगने वालों में पूर्व अफसर बृजेश कुमार, अदिति मेहता, सुनील मित्रा जैसे बड़े अफसर शामिल हैं। ये सभी अधिकारी 4 से 5 साल पहले रिटायर हुए हैं जिन्होंने योगी सरकार पर बुलंदशहर हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या की जांच के बजाय इसे गोकशी के आरोपियों की तरफ मोड़ने का आरोप लगाया है।

यह भी पढ़ें: बुलंदशहर हिंसा: गोकशी को लेकर भीड़ में मचे उपद्रव का अब सीन रिक्रिएट से उठेगा पर्दा

बता दें कि बुलंदशहर हिंसा के बाद हुई समीक्षा बैठक में सीएम योगी आदित्यनाथ ने माना था कि यह हिंसा किसी सांप्रदायिक साजिश का हिस्सा था। हालांकि बाद में उन्होंने इस हिंसा को महज एक घटना बताया था।

यह भी पढ़ें: बुलंदशहर हिंसा मामले में यूपी पुलिस का हाल.. 'नौ दिन चलें अढ़ाई कोस'

गौरतलब है कि बीते 3 दिसंबर को बुलंदशहर में गोकशी के आरोप के बाद हिंसा हुई थी। इस हिंसा में स्याना इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सहित एक अन्य सुमित नाम के युवक की मौत हो गई थी।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …