कासगंज में कपड़ा व्यापारी की हत्या से भारी दहशत, पुलिस फोर्स के साथ श्मशान घाट पहुंचा मृतक का शव

डीएन संवाददाता

शहर के हरिकमल पैलेस के पास बाइक सवार बदमाशों द्वारा कपड़ा व्यापारी के बेटे की गोली मारकर हत्या करने के मामले से यहां भारी दहशत है। गुरूवार को भारी पुलिस बल की मौजूदगी में मृतक युवक के शव को अंतिम संस्कार के लिये श्मशान घाट पहुंचाया गया। पूरी खबर..

पुलिस की मौजूदगी में निकली अंतिम यात्रा
पुलिस की मौजूदगी में निकली अंतिम यात्रा

कासगंज: नदरई गेट इलाके में हरिकमल पैलेस के पास बदमाशों द्वारा सरेशाम कपड़ा व्यापारी की हत्या की घटना से शहर के लोगों में भारी दहशत है। हत्या के बाद से आसपास के क्षेत्र में भारी पुलिस बल को तैनात किया गया। भारी पुलिस बल की मौजूदगी में गुरूवार को मृतक की अंतिम यात्रा निकाली गयी और अंतिम संस्कार के लिये शव को श्मशान घाट पहुंचाया गया।

यह भी पढ़ें: कासगंज: जनवरी के बवाल से भी सबक नहीं.. 15 अगस्त से ठीक पहले व्यापारी की दिन दहाड़े गोली मारकर हत्या 

 

 

यह भी पढ़ें: कासगंज: जनवरी में हुए बवाल से पुलिस ने लिया सबक, 15 अगस्त को लेकर शहर में हाई अलर्ट 

शहर के कपड़ा व्यापारी प्रतीक जैन के 36 वर्षीय बेटे बौबी जैन की बुधवार शाम को बाइक सवार अज्ञात बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसी वर्ष जनवरी माह में चंदन गुप्ता हत्याकांड के बाद उपजे विवाद को लेकर 15 अगस्त के मद्देनजर शहर में पुलिस को हाई अलर्ट कर दिया गया था, इसके बावजूद भी 15 अगस्त से ठीक पहले भरे शहर में व्यापारी की गोली मारकर हत्या करने से लोगों में भारी भय और दहशत है। पूरे शहर में हड़कंच मच गया है। 

घटना के बाद रोते-बिलखते मृतक के परिजन

 

यह भी पढ़ें: कासगंज: गांव में युवक की गोली मारकर हत्या, क्षेत्र में मचा कोहराम 

मृतक के परिजनों समेत यहां की जनता ने पुलिस से बौबी जैन के हत्यारों को शीघ्र गिरफ्तार करने की मांग कर रही है। लोगों में खासा आक्रोश है। जनाक्रोश और किसी तरह के विवाद को रोकने के लिये गुरूवार को बौबी जैन की शव यात्रा के दौरान भारी पुलिस बल मौजूद रहा। पुलिस की मौजूदगी में ही शव को श्मशान घाट तक पहुंचाया गया और अंतिम संस्कार किया गया।

यह भी पढ़ें: कासगंज हिंसा: चंदन की हत्या के 2 आरोपी नसीम-वसीम गिरफ्तार 

जनता का कहना है कि 15 अगस्त को देखते हुए पुलिस के अलर्ट होने के बावजूद भी बदमाशों द्वारा गोली मारकर हत्या करने से सुरक्षा व्यस्था की पोल खुल गयी है। 
पुलिस पर हत्यारों की गिरफ्तारी का दबाव बढ़ता जा रहा है। लेकिन 17-18 घंटे बीत जाने के बाद भी पुलिस के हाथ अभी तक खाली है। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …