पादरी को 9 साल की बच्ची समेत चार लड़कियों के यौन शोषण के लिए मिली 5 साल की सजा

डीएन ब्यूरो

धार्मिक गुरुओं द्वारा महिलाओं और बच्चियों का यौन शोषण करना बेहद आसान होता है क्योंकि समाज में इनका ओहदा बहुत बड़ा होता है। अकसर समाज इन पर शक भी नहीं करता। ऐसे कपटी गुरु हर धर्म में होते हैं। फिलहाल फ्रांस से एक खबर आई है जहां एक पादरी द्वारा चार लड़कियों का यौन शोषण किया गया। पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट..

फ्रांस में पादरी ने किया 4 लड़कियों का यौन शोषण
फ्रांस में पादरी ने किया 4 लड़कियों का यौन शोषण

पेरिस: फ्रांस के एक पादरी पर नियमित तौर पर चर्च आने वाली चार लड़कियों का यौन शोषण करने का आरोप लगा। मुकदमा चला। उसे 5 साल की सजा सुनाई गई है। ये सभी चार लड़कियां नाबालिग हैं। इनमें से एक की उम्र महज़ 9 साल है।

यह भी पढ़ें: फ्रांस में चल रहे ‘येलो वेस्ट’ प्रदर्शन में करीब 69,000 लोग सड़क पर उतरे

अपने अपराध को छिपाने के लिए पादरी ने  एक पीड़िता को पैसे भी दिए थे।। इसके लिए पादरी पर  115,000 डॉलर की धनराशि के गबन का भी आरोप लगा। ये आरोप भी साबित हो गया है। पादरी को चार नाबालिग लड़कियों का यौन शोषण और 115,000 डॉलर की धनराशि के गबन के लिए कोर्ट द्वारा 5 साल की सजा सुनाई गई है। 

यौन शोषक  पादरी ने अपने अपराध पर जताया खेद 
पादरी द्वारा इस अपराध को अलग-अलग समय पर अंजाम दिया गया। इस अपराध को 2001 और 2006 तथा 2011 से 2016 के बीच अंजाम दिया गया। पता नहीं, वाकई ऐसा है या नहीं, लेकिन पादरी के वकील का कहना है कि पादरी को अपने किए पर पछतावा है। पादरी के वकील थिएरी मोजर ने एक बयान में बताया कि पादरी ने अपने अपराधों पर बहुत खेद जताया और ऐसे असहनीय कृत्यों से आहत पीड़ितों तथा लोगों से माफी मांगी। उसने चर्च के लिए निर्धारित धनराशि में से 115,000 डॉलर के गबन की बात भी स्वीकार की। उसका कहना है कि उसने यौन संबंध बनाने के लिए एक पीड़िता को यह धनराशि दी थी।

यह भी पढ़ें: जर्मन कंपनी ने जिस बांध को दी थी क्लीनचिट, वह ढह गया है, 50 की मौत, 345 लापता

बंद कमरे में हुई सुनवाई
उत्तरपूर्वी फ्रांस में कोलमार आपराधिक अदालत ने चार पीड़ितों में से तीन के अनुरोध पर मुकदमे की सुनवाई बंद कमरे में की और शुक्रवार देर रात सार्वजनिक रूप से फैसले की घोषणा की। वकीलों के अनुसार, पादरी को मनोवैज्ञानिक जांच भी करानी होगी जो उसने पहले ही शुरू कर दी है। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …