जर्मन कंपनी ने जिस बांध को दी थी क्लीनचिट, वह ढह गया है, 50 की मौत, 345 लापता

डीएन ब्यूरो

ब्राज़ील में एक भयानक हादसा हुआ है। यहां एक बांध ढहने से 50 लोगों की मौत हो गई है और 345 अब भी लापता हैं। यह वही बांध है जिसे एक जर्मन कंपनी ने क्लीन चिट दी थी। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में पढ़ें पूरी खबर..

बांध अचानक ध्वस्त हुआ जिससे अब तक 50 लोगों के मरने की खबर है
बांध अचानक ध्वस्त हुआ जिससे अब तक 50 लोगों के मरने की खबर है

ब्रूमादिन्हो: दक्षिण-पूर्वी ब्राज़ील में शुक्रवार को एक भयानक हादसा हुआ। यहां एक खदान पर बनी बांध ढह गई है जिसके चलते कई लोगों की मृत्यु हो गई। स्थानीय अग्निशमन अधिकारी ने कहा कि शुक्रवार को आपदा के कई घंटों बाद सात शव बरामद किए गए थे, लेकिन शनिवार तड़के मृतकों की संख्या दस हो गई। बचाव कार्य अब भी जारी है। अब तक मिल रही जानकारी के अनुसार 50 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 150 लोग अब भी लापता बताए जा रहे हैं। ये सभी लापता लोग बांध के नज़दीक बने प्रशासनिक कार्यालय में काम करते थे। इस संदर्भ में गवर्नर रोमू जेमा का कहना है कि बचाव कार्य जारी है लेकिन जीवित लोगों के मिलने की संभावना कम है।

यह भी पढ़ें: लंबे इंतज़ार के बाद अब खत्म होगा अमेरिका में शटडाउन, ट्रंप ने किये हस्ताक्षर

खनन कंपनी वेल की है खदान
 यह खदान ब्राजील की खनन कंपनी वेल की खदान है। इस कंपनी की खदान में यह पहला हादसा नहीं है। इसी राज्य में इस कंपनी की 2015 में पहले भी एक खदान ढह चुकी है। इस हादसे में 19 लोगों की मौत हुई थी।

पर्यावरण संरक्षण एजेंसी आइबीएएमए ने की कार्रवाई

बांध के ढहने के लिए खनन कंपनी वेल को जिम्मेदार ठहराते हुए ब्राजील सरकार की पर्यावरण संरक्षण एजेंसी आइबीएएमए ने कार्रवाई की है। खनन कंपनी वेल पर कुल पौने पांच अरब का जुर्माना लगाया गया है। वहीं सरकारी अधिकारियों द्वारा कंपनी के बैंक खाते में जमा लगभग 19 अरब रुपये फ्रीज़ करने के आदेश भी दिए जा चुके हैं ताकि आपदा पीड़ितों को मुआवजा दिया जा सके। 

यह भी पढ़ें: वेनेजुएलाः राष्ट्रपति के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा में अब तक 26 लोगों की माैत

जर्मन कंपनी तुवे सुद ने बांध को दी थी क्लीन चिट

कुछ महीने पहले ही इस बांध का निरीक्षण किया गया था। खदान का मालिकाना हक रखने वाली कंपनी वेल के अनुरोध पर एक जर्मन कंपनी तुवे सुद ने सितंबर 2018 में बांध का निरीक्षण किया था और बांध के ढांचे में कोई कमी न बताते हुए उसे क्लीन चिट दे दी थी। आपको बता दें कि म्यूनिख आधारित यह वही कंपनी है जो इस संबंध में अच्छी खासी विशेषज्ञता रखने के लिए दुनिया भर में मशहूर है। 

हादसे की जमकर हो रही है आलोचना

इस हादसे की जमकर आलोचना हो रही है। इसके लिए सरकार और खनन कंपनियों को जिम्मेदार ठहराया गया है। ग्रीनपीस ने इस संदर्भ में कहा, “यह दुर्घटना नहीं पर्यावरणीय अपराध है!”

ग्रीनपीस के ब्राजील स्थित कार्यालय ने कहा कि बांध टूटना बताता है कि इस संबंध में पूर्व के अनुभवों से सरकार और खनन कंपनी ने कुछ नहीं सीखा है। उन्होंने इसे पर्यावरणीय अपराध बताते हुए कहा कि इसकी जांच होनी चाहिए और जिम्मेदार लोगों को सजा होनी चाहिए।


 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार