फतेहपुर: लड़कियों से छेड़छाड़ के मुकदमे में फंसाकर समझौते के नाम पर वसूली करने के मामले का पर्दाफाश

डीएन ब्यूरो

पैसे कमाने के कई तौर तरीके हो सकते हैं, लेकिन गलत तरीके से पैसे कमाने के शॉर्टकट का अंजाम भी हमेशा गलत ही होता है। ऐसा ही मामला यहां सामने आया और पैसे कमाने के लिये गलत हथकंडे अपनाने की पोल खुल गयी, जिसने आरोपी की मुश्किलें बढ़ा दी है। पूरी खबर..

आरोपी की गिरफ्तारी की मांग पर अड़े ग्रामीण
आरोपी की गिरफ्तारी की मांग पर अड़े ग्रामीण

फतेहपुर: जनपद के मलवां थाने के कांधी गाँव में एक शातिर की करतूतों से हर कोई हतप्रभ है। आरोपी भोली-भाली लड़कियों, महिलाओं को झांसे में लेकर लोगों के खिलाफ फर्जी तरीके से छेड़छाड़ और बलात्कार आदि के मुकदमे दर्ज करवाता था और मुकदमा दर्ज होने के बाद समझौते के लिये निर्दोष लोगों से मोटी रक़म वसूलता था। आरोपी के इस शाथिर खेल का आखिरकार पटाक्षेप हो गया। ग्रामीणों ने आरोपी के खिलाफ एसपी और डीएम से शिकायत की, जिसके बाद मामले में पुलिस रिपोर्ट दर्ज की गयी।

आरोपी संजय गुप्ता मूल रूप से असवार तारापुर थाना मलवां का निवासी है, जिसके खिलाफ कई शिकायतें मिली है। कई ग्रमीणों का कहना है कि संजय ने उनके खिलाफ भी इस तरह की घिनौनी हरकत की थी।  

 

 

साले की गर्भवती पत्नी को से भी छेड़छाड़

शिकायत लेकर ग्रामीणों के साथ आईं एक पीड़ित  महिला ने बताया कि आरोपी संजय गुप्ता अपने कुछ गुर्गो के साथ मेरे घर में शाम के वक़्त घुस आया और मुझे अपने साथ शहर ले जाने के लिए दबाव बनाने लगा। जब इस बात का मैंने विरोध किया तो वो मेरे साथ जबरदस्ती और छेड़छाड़ करने लगा। पीड़िता के मुताबिक जब उसने शोर मचाया तो गाँव वालों ने मिलकर संजय गुप्ता और उसके गुर्गों को खदेड़ दिया। संजय गुप्ता गाँव के ही एक घर मे जाकर छिप गया। सूचना पर पहुंची मलवां पुलिस उसे निकाल कर ले गई ।

डाइनामाइट न्यूज़ से बातचीत करते हुए मलवां  थाना प्रभारी ने बताया कि मामला मारपीट का है, छेड़छाड़ का नहीं है।

सदर कोतवाली में दर्ज हुई एफआईआर

पीड़िता ने बताया कि फतेहपुर के आबूनागर के पीछे वह अपने पति और नंदोई संजय गुप्ता व ननद के साथ किराए पर रहती थी। 16 जून को जब घर पर उसका पति और ननद नहीं थे तो संजय गुप्ता ने उसके बलात्कार करने की कोशिश की। लेकिन अचानक उसके पति के आने के बाद उसने छोड़ दिया। साथ ही उसने किसी को न बताने की धमकी भी दी। पीड़िता ने सदर कोतवाली में इसकी शिकायत की, जिस पर पहले तो मुकदमा दर्ज नहीं किया गया, लेकिन बाद में डीएम से शिकायत करने के बाद 29 जुलाई को मुकदमा दर्ज किया गया।आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 452,354,507 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। 

 

 

कई महिलाओं और लड़कियों के साथ सम्बन्ध

आरोपी संजय गुप्ता मूल रूप से असवार तारापुर थाना मलवां का निवासी है। बताया जाता है कि आरोपी ने कांधी गाँव की एक दलित युवती को अपने प्रेम जाल में फंसाकर शादी की। इसके अलावा सूत्रों की माने तो संजय गुप्ता के अलग अलग कई महिलाओं और लड़कियों के साथ सम्बन्ध रहे हैं, जिनका प्रयोग वह लोगों के ऊपर बलात्कार और छेड़छाड़ के मुकदमे दर्ज कराने के लिए करता था। 

पुलिस जांच में फर्जी निकला मामला

एसपी के पास शिकायत लेकर आए कांधी गांव के एक ग्रामीण ने बताया कि रारी गाँव के एक निर्दोष व्यक्ति के ऊपर संजय गुप्ता ने 376 का मुकदमा दर्ज करवाया, जो कि पुलिस जांच में पूरी तरह से फर्जी मामला पाया गया। इसी तरह कांधी के ही एक ग्रामीण ने बताया कि आरोपी उसकी अधेड़ उम्र की पत्नी को बहला फुसलाकर अपने साथ ले गया है।

 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार