डॉग लवर्स के लिये बुरी खबर.. अब यहां कुत्तों को बाहर घुमाया तो खैर नहीं

डीएन ब्यूरो

भारत में जहां लोग कुत्तों के काटने की वजह से परेशान है और इस पर कोई सख्त कानून भी नहीं है। वहीं कुत्तों को लेकर एशिया में एक देश ने इतनी सख्ती दिखाई है कि अब वहां कुत्ते पालने वालों के होश उड़ गये हैं। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में पढ़ें किस देश में कुत्तों को लेकर बनाये गए कड़े नियम

कुत्तों को लेकर बनाये गए कड़े नियम

बीजिंगः भारत में जहां कुत्तों के काटने की वजह से लोग परेशान है वहीं कुत्तों की इन आदतों से परेशान होकर चीन ने एक बड़ा कदम उठाया है। चीन के होंगझाऊ शहर के स्थानीय प्रशासन ने कुत्तों को पालने और इन्हें घूमाने- फिराने के लिये कड़े कानून बनाये हैं। यहां कुत्तों को घुमाने के लिये समय निर्धारित किया गया है। चीन में आगामी 15 नवंबर से स्थानीय प्रशासन की अनुमति के बगैर अब कोई भी अपने पालतु  कुत्तों को सड़क पर नहीं घुमा पायेंगे। इसके लिये स्थानीय प्रशासन की अनुमति जरूरी रहेगी।   

यह भी पढ़ेंः बड़ा धोखाः जिसे कुत्ता समझकर पाल रहा था शख्स वो निकला चूहा,जानिये.. कैसे हुआ खुलासा      

 

कुत्तों ने गंदगी फैलाई तो करनी पड़ेगी सफाई

 

प्रशासन से अनुमति मिलने के बाद ही शाम सात बजे से सुबह 7 बजे तक ही कुत्तों को सड़क पर घुमा पायेंगे। जो भी इस नियम का पालन नहीं करेगा उसे कड़ी सजा मिलेगी और कुत्ते को खुले में घुमाने पर कुत्ते को जब्त किया जायेगा। इस दौरान अगर कुत्ते ने सड़क पर गंदगी फैलायी तो कुत्ते को घुमाने वाले मालिक को इसकी साफ- सफाई करनी पड़ेगी। अगर नये नियम का पालन नहीं किया गया तो कुत्ते को पालने वाले पर 5 हजार युआन का जुर्माना लगाया जाएगा।       

यह भी पढ़ेंः खुशखबरीः खेत में मिला भरपूर तेल भंडार..खुदाई के दौरान ONGC की टीम रह गई दंग  

 

 

सार्वजनिक जगहों पर नहीं घुमा पायेंगे कुत्ते

 

यह भी पढ़ेंः छत्तीसगढ़ चुनाव में नक्सलियों का अड़ंगा.. वोटिंग से पहले सीरियल ब्लास्ट, सुरक्षा बलों पर हमला  

यहीं नहीं कुत्तों को वहीं व्यक्ति बाहर घुमा सकता है जो व्यस्क हो। रात को भी यह ध्यान देना पड़ेगा कि कुत्ते का मालिक अपने कुत्ते को सार्वजनिक स्थल पर न ले जाये। इस नियम का पालन नहीं किये जाने पर कुत्ते को तो प्रशासन पकड़ेगा ही साथ में इसे पालने वाले मालिक को न सिर्फ जुर्माना भरना पड़ेगा बल्कि कुछ दिन जेल की हवा भी खानी पड़ सकती है।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार