DN Exclusive: क्या यूपी के मनबढ़ डीएम और एसपी की करतूतों पर मुख्यमंत्री लगा पायेंगे कोई लगाम?

मनोज टिबड़ेवाल आकाश

जब देखना इतना भयावह है तो जरा कल्पना कीजिये आग का दर्द कितना भयावह होगा? गरीब फरियादियों, पीड़ित महिलाओं को जिलों में तैनात डीएम और एसपी उचित न्याय तक नहीं दे रहे। हमारे भ्रष्ट सिस्टम से पीड़ित गरीब जनता आजिज आकर अपने शरीर को आग लगा ले रही है। सोचिये जरा, उस पीड़ित के शरीर, मन और आत्मा पर क्या बीती होगी, जिसने अपने शरीर को आग के हवाले कर दिया हो?


नई दिल्ली: शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री कार्यालय के बाहर से आये वीडियो ने रोंगटे खड़े कर दिये। अति सुरक्षित और बेहद संवेदनशील माने जाने वाले लखनऊ के लोकभवन के बाहर अमेठी से आय़ी दो गरीब महिलाओं ने अपने शरीर पर मिट्टी का तेल छिड़कर आग लगा ली। 

लोकभवन के बाहर का दृश्य

सोफिया और गुड़िया नाम की महिलाएं मां-बेटी हैं। अमेठी जिले के जामो थाना क्षेत्र की रहने वाली मां-बेटी को नाली के विवाद में गांव के दबंगों ने लाठी-डंडे से जमकर पीटा था। सारा मामला स्थानीय पुलिस के संज्ञान में था, फिर भी दबंगो को हौसला इतना बुलंद कि पहुंच गये मां-बेटी को सबक सिखाने।

पुलिस और प्रशासन खाना-पूर्ति से आजिज मां-बेटी को जिले स्तर पर डीएम-एसपी से कोई न्याय नहीं मिला तो पहुंच गयीं लखनऊ अपनी इह-लीला समाप्त करने। 

घटना के बाद पहुंची पुलिस

यह सवाल एक जिले का नहीं है, कमोबेश अधिकांश जिलों की यही स्थिति है। लापरवाह डीएम और एसपी मुख्यमंत्री के आदेशों को रद्दी की टोकरी में डाल रहे हैं और जमकर मनमानी कर रहे हैं। 

सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या विभिन्न जिलों में तैनात मनबढ़ डीएम और एसपी की करतूतों पर कोई लगाम लग पायेगी?  

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)













संबंधित समाचार