सच कड़वा है..दिल्ली में लड़कों को शादी के पड़े लाले, चौंकाने वाली वजह आई सामने

डीएन ब्यूरो

दिल्ली में लड़कों की शादी को लेकर एक ऐसी कड़वी सच्चाई सामने आई है, जिसे जानकर हर कोई हैरान है। यहां दिल्ली के देहात इलाकों में लड़कों के परिजनों और इन घरों के बुजुर्गों को अपने पोते की शादी करवाने में खासी मशक्कत करनी पड़ रही है। इसके पीछे वजह भी अनोखी है, पढ़ें..डाइनाइमाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में

घोड़ी पर सवार दूल्हा और नाचते बाराती (फाइल फोटो)
घोड़ी पर सवार दूल्हा और नाचते बाराती (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः त्यौहारों के साथ-साथ शादियों का भी सीजन चल रहा है। हर तरफ चहल-पहल चल रही है। लेकिन दिल्ली के उत्तर-पश्चिमी ग्रामीण इलाकों खासतौर पर किराड़ी, निठारी, मुबारकपुर, नरेला, कराला, बवाना के साथ-साथ दक्षिण-पश्चिमी दिल्ली के नजफगढ़, महिपालपुर और कापसहेड़ा सेंट्रल दिल्ली के टोडापुर,दशहरा गांव में युवाओं में बढ़ रही बेरोजगारी और बेकारी के चलते यहां शादी- ब्याह के लाले पड़ गये है।       

यह भी पढ़ेंः ऑपरेशन के दौरान डॉक्टरों के उड़े होश..जब मरीज के पेट से निकली ये चीजें  

 

 

बारात में बैंड-बाजा (फाइल फोटो)

 

यहां लड़कों की शादी इसलिये नहीं हो रही क्योंकि उनके पास स्थाई रोजगार नहीं है। पहले जहां दिल्ली से सटे हरियाणा और यूपी से यहां रिश्ते आते थे वहीं अब बेरोजगारी से तंगहाली के शिकार लड़कों के परिवार वालों को ये चिंता सता रही है कि आखिर कब उनके घर में भी सहनाई बेजगी और उनके लाडले की शादी हो पायेगी। इन गांवों के बुजुर्गों का कहना है कि पहले जहां लोग एक दूसरे की खैरियत पूछ लिया करते थे अब हालात ये हो गये हैं कि जब भी कोई रिश्तेदार घर पर आता है तो यहीं पूछता है कि लड़के के रिश्ते की बात हुई कहीं कि नहीं।      

यह भी पढ़ेंः क्रिकेट नहीं.. 2019 में राजनीति के मैदान में उतरेंगे धोनी, भाजपा से लड़ेंगे चुनाव!  

 

 

बारात में झूमते बाराती (फाइल फोटो)

 

इसकी एक बड़ी वजह इन देहात इलाकों में लड़कों और लड़कियों के अनुपात में कमी होना भी है। ग्रामीणों का कहना है कि उनके पास जहां पहले भरी पूरी अपनी पुस्तैनी जमीन हुआ करती थी उसे दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) ने सस्ते दामों पर उनसे खरीद लिया। इससे जो उनको मुआवजा मिला उन्होंने इसे बच्चों की पढ़ाई-लिखाई में लगा दिया और किसी ने इससे अपना काम धंधा में खोला।     

यह भी पढ़ेंः अद्भुतः आसमान से गिरा चांद का टुकड़ा..हक्के-बक्के रहे लोग, 4.5 करोड़ में नीलाम  

लेकिन इस मुआवजे से जहां कुछ सालों तक उनका आर्थिक पक्ष मजबूत हुआ वहीं समय के साथ-साथ सरकार ने सरकारी नौकरियों में न सिर्फ कटौती कर दी बल्कि जो युवा दिल्ली पुलिस, अर्धसैनिक बलों में और फौज में जाकर देश सेवा के सपने देख रहे थे समय पर इन क्षेत्रों में नौकरी नहीं निकलने से उनकी दुर्गती हो गयी है। इनकी उम्र अब देशसेवा की भर्ती के लिये ओवरएज हो गई है।    

 

बैंड-बाजे के साथ झूमते बाराती (फाइल फोटो)

 

जिससे यहां इनके लिये रास्ते बंद हो गये हैं। वहीं जब इन ग्रामीण क्षेत्रों में लड़कों के लिये रिश्ते आते भी है तो सबसे पहले लड़की वाले यहीं पूछते है कि क्या लड़का सरकारी नौकरी में है या फिर ऐसे ही छोटी-मोटी प्राइवेट नौकरी कर रहा है। सरकारी नौकरी है तो रिश्ता समझो झट से हो जाता है लेकिन प्राइवेट नौकरी वाले छोरो के लिये तो शादी जैसा एक सपना बनकर रह गया है। 

जहां पहले दिल्ली के इन देहात इलाकों में फरीदाबाद, सोनीपत, मेवात, पानीपत, झज्जर, बागपत आदि जगहों से रिश्ते आते थे अब तो यहां की लड़की वालों ने इस तरफ से अपना मुंह ही मोड़ लिया है। इन ग्रामीण क्षेत्रों के बुजुर्गों का कहना है कि हमारे गांवों के लड़कों में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है इन गांवों से खेलों में कई ऐसे लड़के भी निकले हैं जिन्होंने देश-दुनिया में इन ग्रामीण क्षेत्रों का नाम रोशन किया है।     

यह भी पढ़ेंः बेरोजगार युवाओं के लिये बिहार में निकली बंपर सरकारी नौकरियां, सैलरी 60 हजार

 

 

घोड़ी चढ़ता दूल्हा (फाइल फोटो)

 

यह भी पढ़ेंः बड़ा धोखाः जिसे कुत्ता समझकर पाल रहा था शख्स वो निकला चूहा,जानिये.. कैसे हुआ खुलासा  

लेकिन अब हर कोई तो खेलों में आगे नहीं बढ़ सकता। बात अगर पढ़ाई की करें तो इन लड़कों ने पढ़ाई-लिखाई भी बड़े-बड़े प्राइवेट कॉलेजों और सरकारी कॉलेजों से की है लेकिन कमी है तो एक ढंग के स्थाई रोजगार की जिस वजह से रिश्ते होते-होते रह जा रहे हैं। 

बेरोजगार युवकों के पास अब खेती का भी काम नहीं बचा क्योंकि खेत तो पहले ही डीडीए को हम बेच चुके हैं। यहीं वजह है कि इन ग्रामीण क्षेत्रों में बेरोजगारी से तंग युवा गलत राह अपना रहे हैं। वो नशे की लत का शिकार हो रहे हैं, जिससे दिल्ली और एनसीआर में अपराध का ग्राफ बढ़ रहा है जो कि दिल्ली के लिये और इन ग्रामीण इलाकों के लिये चिंता का विषय है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार