कांग्रेस बोली- मोदी सरकार का नमामि गंगे कार्यक्रम भी जुमला साबित हुआ

डीएन ब्यूरो

कांग्रेस ने भाजपा के नमामि गंगे प्रोजेक्ट को लेकर तीखा हमला करते हुए गुरुवार को कहा कि 2014 के आम चुनाव में निर्मल और अविरल गंगा के वादे के साथ सत्ता में आई मोदी सरकार का ‘नमामि गंगे’ कार्यक्रम भी जुमला साबित हुआ है। डाइनामाइट न्यूज की स्पेशल रिपोर्ट..

रणदीप सिंह सुरजेवाला  (फाइल फोटो)
रणदीप सिंह सुरजेवाला (फाइल फोटो)

नयी दिल्ली: कांग्रेस ने पिछले चार साल के दौरान गंगा में प्रदूषण बढ़ने की खबर को लेकर भारतीय जनता पार्टी पर तीखा हमला करते हुए गुरुवार को कहा कि 2014 के आम चुनाव में निर्मल और अविरल गंगा के वादे के साथ सत्ता में आयी मोदी सरकार का ‘नमामि गंगे’ कार्यक्रम भी जुमला साबित हुआ है।

यह भी पढ़ें: चुनावों से पहले भाजपा को बड़ा झटका, पूर्व केंद्रीय मंत्री के बेटे ने परिवार साथ मिलाया कांग्रेस से हाथ 

रणदीप सिंह सुरजेवाला (फाइल फोटो)

 

कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने गंगा की सफाई को लेकर मीडिया में आयीं खबरों पर कहा कि चार साल पहले गंगा की सफाई को लेकर जो लुभावनी बातें की गयी थीं, वे सिर्फ जुमला साबित हुई हैं और गंगा पहले की तुलना में ज्यादा मैली हुई है। गंगा सफाई के लिए मोदी सरकार ने जो महत्वकाक्षी ‘नमामि गंगे’ कार्यक्रम शुरू किया वह बेअसर रहा है और निर्मल गंगा के नाम पर लोगों के साथ धोखा किया गया है।

सुरजेवाला ने ट्वीट करते हुआ लिखा  “माँ गंगा ने बुलाया है’/ थी सिर्फ़ जुमलों की बात,/ दिया धोखा, किया माँ गंगा से विश्वासघात/ न काशी बना ‘क्योटो’/ अधिक दूषित हुईं गंगा जी, न हुआ उद्धार/ चंद महीनों की बात है, जनता लेगी लोकतांत्रिक प्रतिकार।”

यह भी पढ़ें: राफेल डील को लेकर कांग्रेस का भाजपा पर बड़ा पंच, मनोहर पर्रिकर का नाम भी जुड़ा 

इसके साथ ही उन्होंने वह खबर भी पोस्ट की है जिसमें कहा गया है कि नमामि गंगे कार्यक्रम शुरू करने और गंगा सफाई पर 3,867 करोड़ रुपये ख़र्च करने के बावजूद मोदी सरकार के कार्यकाल में यह नदी और अधिक दूषित हुई है। खबर में दावा किया गया है कि सूचना का अधिकार के तहत मिली जानकारी से पता चलता है कि गंगा सफाई के लिए केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी ‘नमामि गंगे’ के बावजूद पिछले साढ़े चार साल के दौरान गंगा और मैली हुई है।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …