औरैया: पुरानी पेंशन बहाली की मांग पर उग्र प्रदर्शन, 29 अगस्त से राज्य में कार्य बहिष्कार

डीएन संवाददाता

जिला मुख्यालय ककोर के बाहर भारी संख्या में कर्मचारियों व अधिकारियों ने पुरानी पेंशन की बहाली के लिए धरना प्रदर्शन किया। इस मौके पर 29 अगस्त से पूरे प्रदेश में तीन दिन के कार्य बहिष्कार का निर्णय लिया गया। पूरी खबर..

प्रदर्शनकारी कर्मचारी
प्रदर्शनकारी कर्मचारी

औरैया: जिला मुख्यालय ककोर के बाहर बड़ी संख्या में पहुंचे कर्मचारियों, शिक्षकों और अधिकारियों ने पुरानी पेंशन की बहाली की मांग को लेकर धरना प्रदर्शन किया। इस मौके पर आगे के आंदोलन की रूपरेखा भी तय की गयी। 29 अगस्त से पूरे प्रदेश में तीन दिवसीय कार्य बहिष्कार कर सभी जिलों में धरना-प्रदर्शन करने का निर्णय लिया गया।

 

इस मौके पर प्रदर्शनकारी कर्मचारियों ने नई अंशदाई पेंशन योजना के स्थान पर पुरानी पेंशन व्यवस्था को बहाल करने के लिए मुख्यमंत्री को सदर तहसीलदार के जरिये एक ज्ञापन भी प्रेषित किया।

यह भी पढ़ें: औरैया: भैंस चोरी के नाम पर दलित के साथ जमकर मारपीट, जनता में भारी आक्रोश

प्रदर्शनकारियों ने आगे प्रदर्शन करने के लिए भी रूपरेखा तैयार करते हुए कहा कि 29, 30 व 31 अगस्त को प्रदेश भर के कर्मचारी तीन दिवसीय कार्य बहिष्कार कर जिलों में धरना देगें। 8 अक्टूबर को लखनऊ में कर्मचारी, शिक्षकों व अधिकारियों की विशाल रैली आयोजित की जायेगी। 25, 26, 27 अक्टूबर को तीन दिवसीय हड़ताल व अनिशचित कालीन हड़ताल की घोषणा कर दी जायेगी।

यह भी पढ़ें: औरैया: पुलिस ने सुलझाया वृद्ध महिला की हत्या का राज, दो आरोपियों को भेजा जेल 

इस मौके पर अध्यक्ष अखिलेश चंद्र यादव ने कहा कि अप्रैल 2005 के उपरांत राजकीय सेवा में पदभार ग्रहण किए राज्य कर्मचारियों, शिक्षकों व अधिकारियों ने सरकार का ध्यान आकर्षित करते हुए पुरानी पेंशन मंच का गठन किया।

संयोजक सुरेश कुमार ने कहा कि अंशदाई पेंशन योजना के अंतर्गत आने वाले कर्मचारियों को इस बात की चिंता है कि उनकी जमा धनराशि को शेयर में इन्वेस्ट किया जाएगा, जहां से निश्चित मासिक आय की कोई गारंटी नहीं है।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार