यूपी के स्वास्थ्य मंत्री ने मानी विभाग में भ्रष्टाचार की बात, कहा तकनीक के सहारे रोकेंगे

डीएन संवाददाता

मंत्री सिदार्थनाथ सिंह ने लखनऊ के स्वास्थ्य महानिदेशालय में हुई एक बैठक के दौरान अपने विभाग में भ्रष्टाचार की बात स्वीकार की।

मंत्री सिदार्थनाथ सिंह कार्यक्रम को संबोधित करते हुए
मंत्री सिदार्थनाथ सिंह कार्यक्रम को संबोधित करते हुए

लखनऊ: यूपी के चिकित्सा और स्वास्थय मंत्री सिदार्थनाथ सिंह ने लखनऊ के स्वास्थ्य महानिदेशालय में हुई एक बैठक के दौरान अपने विभाग में भ्रस्टाचार की बात मानी। इसी के साथ मंत्री ने कहा हम तकनीक के सहारे इसे रोकने की कोशिश करेंगे। बता दें कि स्वास्थ्य मंत्री चिकित्सा महानिदेशालय कर्मचारी संघ के नये चयनित पदाधिकारियों के शपथ ग्रहण समारोह मे आये थे। इस मौके पर चयनित कुल 9 कर्मचारी नेताओं को उन्होंने शपथ भी दिलाई।

यह भी पढ़ें: गोमती नदी घोटाले की न्यायिक जांच की कमान आलोक सिंह को

मंत्री ने माना विभाग में है डाक्टरों की कमी

मंत्री ने कहा कि पूरे यूपी मे साढ़े सात हजार से ज्यादा डाक्टरों और 18 हजार से ज्यादा पैरामेडिकल स्टाफ की कमी है। उन्होनें कहा की उनकी सरकार ने डाक्टरों की रिटायरमेंट 60 से बढाकर 62 करने का फैसला किया है। जिससे डाक्टरों की कमी को पूरा किया जा सके। इसी के साथ एक हजार नये डाक्टरों को वाक-इन इंटरव्यू के जरिये नियुक्त किया जायेगा। जिससे विभाग को जल्द से जल्द नये डाक्टर मिलें।

कर्मचारियों ने की खाली पदों को भरने की मांग

स्वास्थ्य महानिदेशालय के कर्मचारी नेताओं ने मंत्री से तृतीय और चतुर्थ श्रेणी के खाली पदों को जल्द भरने और लिपिकों के खिलाफ मिली शिकायतों पर मामलें से जुड़े अधिकारियों पर भी कारवाई करने की मांग की।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार