फिर खत्म हुई पांच जिंदगियां, मौत के कारोबारियों पर लगाम लगाने में यूपी सरकार नाकाम

डीएन ब्यूरो

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सूबे की सत्ता संभालते ही राज्य में तमाम तरह के अपराधों के खिलाफ एक बड़ा अभियान शुरू किया, लेकिन इसके बावजूद भी राज्य में अपराधों पर लगाम नहीं लग सकी। पढ़ें, डाइनामाइट न्यूज़ की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट..

अपराधियों की करतूतों से लोगों में भारी गुस्सा
अपराधियों की करतूतों से लोगों में भारी गुस्सा

शामलीः जहरीली शराब के खिलाफ यूपी सरकार द्वारा छेड़ा गया अभियान दम तोड़ता जा रहा है, जिस कारण जहर के सौदागरों के हौसले फिर एक बार बुलंद हैं। जहर का काला कारोबार कर रहे अपराधियों की करतूतों के कारण शामली में पांच लोगों को अकाल मौत के मुंह में धकेल दिया है। यह पहला मामला नहीं है जब कच्ची और जहरीली शराब पीने के कारण राज्य में लोगों की मौत हुई हो।

पुलिस पर कच्ची शराब के धंधे में संलिप्त होने का आरोप

जहरीली शराब पीने से 2 दिन के अंदर शामली के झिंझाना क्षेत्र के कमालपुर गांव में 5 लोग अपनी जान गंवा चुके है। वहीं आधा दजर्न लोगों को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती किया गया है। मामले में जहां ग्रामीण पुलिस प्रशासन पर कच्ची शराब के धंधे में संलिप्त होने का आरोप लगा रहे हैं, वहीं घटना के बाद पुलिस महकमे में हड़कम्प मच गया है।

यह भी पढ़ें: अमेठी- अवैध शराब के खिलाफ चलाये जा रहे अभियान में पुलिस ने 3 माफियाओं को किया गिरफ्तार

प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन

गौरतलब है कि मंगलवार को जहरीली शराब पीने की वजह से मंगलवार को 3 और बुधवार सुबह 2 लोगों ने दम तोड़ा है। घटना के बाद पुलिस दल के साथ मौके पर पहुंचे शामली एडीएम और एडिशनल एसपी के खिलाफ ग्रामीणों ने नारेबाजी की और पुलिस प्रशासन हाय हाय के नारे भी लगाए। ग्रामीणों का कहना है कि उनके गांव में कई दिनों से कच्ची शराब की खरीद- फरोख्त की जा रही है। इस मामले में जोगा सरदार नाम के एक शख्स पर कच्ची शराब बेचने की बात सामने आई है।

गिरफ्तारी के बाद छोड़ा गया आरोपी

ग्रामीणों का कहना है कि पुलिस ने हालांकि उसके यहां पर एक दो बार छापा भी मारा था लेकिन जोगा ने तलवार लेकर उल्टा पुलिस को वहां से भगा दिया। जिसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार भी किया था लेकिन पैसों व पुलिस महकमे में जान-पहचान के चलते वह छूट गया। ग्रामीणों का कहना है कि उसी के यहां पर पिछले दिनों एक दर्जन लोगों ने शराब पी थी।  

यह भी पढ़ें: अमेठी- नहीं थमा नकली शराब बनाने का धंधा, अवैध काम में लिप्त दो आरोपी चढ़े पुलिस के हत्थे

क्या कहते हैं एएसपी 

मामले में एएसपी श्लोक कुमार का कहना है कि उन्हें जहरीली शराब से कल 3 लोगों के मरने की सूचना मिली थी। इस पर संबंधित गांव में पुलिस गई, जहां ग्रामीणों का कहना था कि संदिग्ध परिस्थितियों में इनकी मौत हुई है। वहीं इन तीनों की मौत के बाद 2 अन्य लोगों की मौत हुई। फिलहाल पुलिस मामले में लोगों से पूछताछ कर रही है और जांच में तथ्य सामने आने के बाद ही 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …