चिंताजनक हुआ अफगानिस्तान में आतंकवादी खतरे से पड़ोसी देशों पर हमला

डीएन ब्यूरो

शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के प्रमुख एवं महासचिव व्लादिमीर नोरोव ने कहा है कि अफगानिस्तान और उसके सीमावर्ती क्षेत्र में आतंकवादी खतरा चिंताजनक है तथा यह पूरे मध्य और दक्षिण एशियाई देशों में अस्थिरता और आतंकवादी गतिविधियों को फैला सकता है।

फाइल फोटो
फाइल फोटो

संयुक्त राष्ट्र: शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के प्रमुख एवं महासचिव व्लादिमीर नोरोव ने कहा है कि अफगानिस्तान और उसके सीमावर्ती क्षेत्र में आतंकवादी खतरा चिंताजनक है तथा यह पूरे मध्य और दक्षिण एशियाई देशों में अस्थिरता और आतंकवादी गतिविधियों को फैला सकता है। नोरोव ने संयुक्त राष्ट्र-एससीओ की उच्च स्तरीय बैठक में मंगलवार को कहा अफगानिस्तान सीमा क्षेत्र में मौजूदा स्थिति काफी खतरनाक है और इससे पड़ोसी और मध्य एशियाई देशों में आतंकवादी गतिविधियां और अस्थिरता फैलने के संभावित खतरे व्याप्त हैं। उन्होंने कहा कि हाल ही में आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) का उज्बेकिस्तान के साथ सीमा पर एक ताजिक चौकी पर हमला इस खतरे की प्रासंगिकता की पुष्टि करता है।

यह भी पढ़ें: बोलीविया में जारी विरोध प्रदर्शन, 23 लोगों की मौत, 700 से अधिक घायल 

ताजिक अधिकारियों के अनुसार छह नवंबर को ईशकोबोड चेकपॉइंट पर हुए हमले में आईएस के 20 आतंकवादी शामिल थे। ताजिक सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में 15 आतंकवादी मारे गए, जबकि पांच अन्य को गिरफ्तार कर लिया गया। अफगानिस्तान में सरकारी सुरक्षा बलों और कट्टरपंथी तालिबान आतंकवादियों के बीच लंबे समय से संघर्ष जारी है। तालिबान के अलावा यहां कई इलाकों में आईएस एवं अल कायदा से जुड़े संगठनों के आतंकवादी भी सक्रिय हैं। ये संगठन सुरक्षा बलों पर हमले करते रहते हैं जिसमें कई सुरक्षाकर्मी एवं नागरिक मारे जा चुके हैं तथा अनेकों घायल हैं। यह हमला अब दूसरे देशों से जुड़ी सीमाओं पर स्थित सुरक्षा चौकियों पर भी हो रहा है। (वार्ता)

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार