एंटी करप्‍शन की टीम का एसआई पर शिकंजा, 20 हजार की घूस लेते पकड़ा

डीएन ब्यूरो

पुलिस प्रशासन को शर्मसार करने वाला एक मामला उत्तर प्रदेश के संतकबीरनगर जिले से सामने आया है। जहां खलीलाबाद के कोतवाली पर तैनात एसआई को रिश्वत लेते हुए एंटीकरप्शन की टीम ने पकड़ा है। पुलिस विभाग पहले से ही अपनी कार्यशैली को लेकर संकट में है, इस तरह की घटनाएं उसकी विश्‍वसनीयता पर भी सवाल खड़े कर रही है।

लाल घेरे में घूस लेते पकड़े गए एसआई और एंटी करप्‍शन की टीम

खलीलाबाद (संतकबीरनगर): प्रदेश की राज्‍य सरकार पुलिस विभाग को दुरुस्‍त करने के लिए लगातार तबादले और अन्‍य कार्रवाइयां करती रहती है। इसके बावजूद भी पुलिस कर्मचारी घूसखोरी से बाज नहीं आ रहे हैं। बीते दिन जिले के खलीलाबाद कोतवाली पर तैनात एसआई को एंटीकरप्‍शन की टीम ने रिश्‍वत लेते पकड़ा। इस दौरान अपने काम ने सुस्‍त रहने वाले एसआई ने फुर्ती दिखाते हुए भागने का प्रयास भी किया। एंटी करप्‍शन टीम ने मुकदमा दर्ज करवा कर कार्रवाई शुरू कर दी है। 

यह भी पढ़ें: यूपी में बड़े पैमाने पर जेलरों और डिप्टी जेलरों का तबादला, उन्नाव जेल में कैदियों का वीडियो वायरल होने के बाद बड़ा कदम

गुरुवार को गोरखपुर की एंटी करप्शन टीम ने कोतवाली खलीलाबाद में उप निरीक्षक पद पर तैनात श्रीकांत चौबे को 20,000 रुपये रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया। 

यह भी पढ़ें: यूपी में तबादलों का दिन.. 49 एआरटीओ के बदले ठिकाने, पूरी लिस्ट

श्रीकांत चौबे, खलीलाबाद कोतवाली में उप निरीक्षक (एसआई) के पद पर तैनात है। उनके खिलाफ कुछ दिनों पहले थाना कोतवाली खलीलाबाद में एक मामले में शिकायतकर्ता शत्रुघ्न सिंह पुत्र राम प्रताप सिंह निवासी सरवसी थाना बांसगांव जनपद गोरखपुर के विरुद्ध एक आपराधिक मुकदमा धारा 279/334A दर्ज किया गया था।

यह भी पढ़ें: महराजगंज के प्रशासनिक परिसरों में उड़ाई जा रही स्वच्छता की धज्जियां, महिला थाना के बगल में लगा कूड़े कचरों का अंबार

उन आरोप है कि श्रीकांत चौबे ने उनका नाम मामले से हटाने के एवज में 20,000 रुपये रिश्वत मांगी थी। जिसकी शिकायत शत्रुघ्न सिंह ने एंटी करप्शन टीम गोरखपुर को लिखित रूप से किया था, जिसे संज्ञान में लेते हुए रामधारी मिश्र निरीक्षक प्रभारी एंटी करप्शन गोरखपुर के नेतृत्व में टीम गठित की गई।

यह भी पढ़ें: यूपी में 15 आईएएस अफ़सरों के तबादले.. आवास और आबकारी विभाग के प्रमुख सचिवों का तबादला

टीम ने गुरुवार दोपहर एसआई श्रीकांत चौबे को 20,000 रिश्वत लेते हुए उन्‍हें घेर लिया। इस पर एसआई श्रीकांत भागने का प्रयास करने लगे और खलीलाबाद के मेंहदावल बाईपास ओवरब्रिज के पास उन्‍हें पकड़ा गया। रामधारी मिश्र प्रभारी एंटी करप्शन टीम ने थाना महुली पर मुकदमा दर्ज करा कर घूसखोर एसआई पर कार्रवाई शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ें: आईएएस अमित सिंह बंसल की गोरखपुर विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष पद से छुट्टी

इससे पहले भी कई नप चुके हैं

एंटी करप्शन टीम की जिले में कार्रवाई का यह तीसरा मौका है जब कोई पुलिसवाला ही इस कार्रवाई की जद में आया है। 28 मार्च 2017 को बीएसए गजराज यादव को 10 हजार रुपये घूस लेते हुए पकड़ा गया था। 2014 के अगस्त माह में बीएसए के बाबू विजय कुमार को भी एंटी करप्शन ने 5 हजार रुपये घूस लेते हुए पकड़ा था। 2017 में पौली चौकी इंचार्ज रहे विनोद कुमार को भी एंटी करप्शन टीम ने 10 हजार रुपये की घूस लेते गिरफ्तार किया था।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार