सोनभद्र: सीएम से शिकायत के बावजूद नहीं रुक रहा अवैध खनन

डीएन संवाददाता

सूबे के प्रत्येक जिले में हो रहे अवैध खनन को लेकर अपना दल के दुद्धी विधायक हरीराम चेरी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई। डाइनामाइट न्यूज एक्सक्लूसिव..


सोनभद्र: सूबे के प्रत्येक जिले की प्रमुख नदियों में लंबे अरसे से अवैध खनन हो रहा है जिससे नदियों को नुकसान पहुंच रहा है। अपना दल के दुद्धी विधायक हरीराम चेरी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को कई दफा पत्र लिखा लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। खनन मंत्री और जिलाधिकारी को इस स्थिति से अवगत कराया गया लेकिन उन्होंने मामले की जांच करना ज़रूरी नहीं समझा। लिहाज़ा जिले की कई नदियों में बेधड़क अवैध खनन कार्य जारी है।

नियमों को ताक पर रखकर अवैध खनन जारी 

सूबे में अवैध खनन प्रत्येक जिले की प्रमुख नदियो में हो रहा है लेकिन इसके खिलाफ योगी सरकार कोई कदम नहीं उठा रही है। जिले के आखिरी विधानसभा क्षेत्र 403 दुद्धी से अपना दल के विधायक हरीराम चेरो ने सीधे मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर नियमो के खिलाफ चलने वाली बालू खदानों के खिलाफ आवाज उठाई है। जिला मुख्यालय स्थित एक होटल प्रेसवार्ता के माध्यम से दुद्धी विधायक हरीराम चेरो ने कहा कि कनहर नदी में खोखा गांव में अखिलेश कुमार के नाम से अप्रेल 2018 में बालू खदान आवंटित हुई थी जो की नियमों के विरुद्ध आवंटित हुई है। 

खोखा में बालू ठेकेदार द्वारा खनन क्षेत्र में भारी पैमाने पर अवैध कार्य किया जा रहा है। नदी में मजदूरों द्वारा बालू न लोडकर पोकलेन मशीनों को लगाकर बालू लोडिंग कराया जा रहा है और नदी के बीच धारा में 20 से 30 फिट के गहरे गड्ढे बना दिए गए हैं।

 

इसके साथ ही सीमांकन क्षेत्र से हटकर नदी के बीच धारा को मोड़ते हुए अस्थायी पुलों का निर्माण कर दिया गया है। यहां 24 घंटे अवैध खनन जारी है लेकिन किसी अधिकारी को खबर नहीं है। वहीं ओवर लोडिंग की वजह से बालू साइड पर पहुंचे माल की हालत खस्ता है। पीडब्लूडी द्वारा इस मार्ग की लोड क्षमता 10 टन निर्धारित की गई है लेकिन इस 10 फीट चौड़े मार्ग पर 30 से 50 टन लोड ट्रको का संचालन किया जा रहा है। बालू ठेकेदार न केवल अवैध रूप से खनन कार्य कर रहे हैं बल्कि सरकार को गुमराह कर राजस्व की चोरी भी कर रहे हैं। यही हाल जिले में संचालित अन्य बालू खदानों का भी है।  

बार-बार शिकायत के बावजूद नहीं हुई कार्रवाई

जिले में अवैध खनन को लेकर बार-बार मुख्यमंत्री, खनन मंत्री और जिलाधिकारी से लिखित रूप में शिकायत की गई लेकिन किसी अधिकारी ने गंभीरता से संज्ञान नहीं लिया। इसके साथ ही ग्रामीणें ने अवैध खनन को लेकर बरहमोरी बालू साइड पर धरना प्रदर्शन भी किया था और ज्ञापन के माध्यम से मख्यमंत्री को अवगत कराया था लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। वहीं प्रधानमंत्री और केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री को भी पत्र लिखकर शिकायत की गई लेकिन उन्होंने भी शिकायत को अनसुना कर दिया।
 

अब ठेकेदार जनहित के सवाल उठाने पर षडयंत्र के तहत फंसाने की धमकी दे रहे हैं। अपना दल के दुद्धी विधायक हरिराम चेरी का कहना है कि ठेकेदार उन्हें जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। उन्होंने चेतावनी दी है कि 23 जनवरी को बहेराडोल के सामुदायिक भवन के प्रांगण में क्षेत्र के ग्राम प्रधान, बीडीसी, जिला पंचायत सदस्य,  समाजसेवी संगठन, आदिवासी संगठन एवं सभी राजनीतिक दलों के सदस्य दलगत भावनाओ से हटकर जनहित के लिए लड़ाई लड़ने के लिए एकजुट होंगे और सरकार को मुंहतोड़ जवाब देंगे। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …