राहुल गांधी को 'अपरिपक्व' बताने पर शीला दीक्षित की सफाई

डीएन ब्यूरो

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को 'अपरिपक्व' बताने वाले अपने बयान पर शुक्रवार को यू-टर्न लेते हुए कहा कि राहुल में 'परिपक्व नेता के तौर पर संवेदनाएं हैं।' शीला ने गुरुवार को एक समाचार-पत्र को दिए साक्षात्कार में कहा था कि 'राहुल गांधी अपनी उम्र के लिहाज से अभी परिपक्व नहीं हुए हैं।'

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित
दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित

नई दिल्ली: दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को 'अपरिपक्व' बताने वाले अपने बयान पर शुक्रवार को यू-टर्न लेते हुए कहा कि राहुल में 'परिपक्व नेता के तौर पर संवेदनाएं हैं।' शीला ने गुरुवार को एक समाचार-पत्र को दिए साक्षात्कार में कहा था कि 'राहुल गांधी अपनी उम्र के लिहाज से अभी परिपक्व नहीं हुए हैं।'

यह भी पढ़े: रायबरेली में पूरे तेवर में दिखीं प्रियंका गांधी, कहा- यूपी को बाहरी की जरुरत नही

उनके बयान को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अध्यक्ष अमित शाह ने लपकते हुए राहुल गांधी का मजाक उड़ाते हुए कहा, "अपरिपक्व राहुल को उत्तर प्रदेश भेजने की जगह घर में रखना चाहिए।"  ट्विटर पर डोंटट्वीस्टमाईवर्ड्स हैशटैग पर शीला दीक्षित ने अपनी टिप्पणी पर सफाई दी।

 

शीला ने कहा, "राहुल में परिपक्व नेता के तौर पर संवेदनाएं व चिंताएं हैं। वह उसी तरह की बातें करते हैं, जैसा कि एक युवा या साहसी व्यक्ति सोचता है।"

 

विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) ने भी शुक्रवार को राहुल गांधी का मजाक उड़ाते हुए कहा, "वह पूरी तरह परिपक्व हो गए हैं और भारत को 'कांग्रेस मुक्त' बनाने के 'महात्मा गांधी के सपने' को पूरा करने के लिए निकले हुए हैं।"

यह भी पढ़े: सोनिया का मोदी पर करारा हमला, कहा- 'कुर्सी बचाने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं'

वहीं, कांग्रेस प्रवक्ता शोभा ओझा ने कहा, "उन्होंने क्या टिप्पणी की या क्या नहीं की, उसपर उन्होंने (शीला) ने खुद सफाई दी है। मैं इसपर टिप्पणी करने की जरूरत नहीं समझती।"

 

अमित शाह की टिप्पणी पर ओझा ने कहा, "राहुल जी को अमित शाह से सर्टिफिकेट लेने की जरूरत नहीं है। वह (राहुल) कड़ी मेहनत कर रहे हैं और जनता के दिलोदिमाग में बसते हैं, क्योंकि वह देश के हर नागरिक को न्याय दिलाने की लड़ाई लड़ते हैं।" उन्होंने कहा, "वह एकमात्र नेता हैं, जो किसानों और उनके अधिकारों के लिए लड़ते हैं। उन्होंने रोहित वेमूला तथा दबे-कुचले लोगों के लिए लड़ाई लड़ी है। राहुल जी को अमित शाह के सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है।" (आईएएनएस)

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

#DNPoll क्या आपको लगता है जनता के असली मुद्दों को लेकर मोदी और राहुल के बीच आमने-सामने की डिबेट होनी चाहिये?

हां
80.95%
नहीं
19.05%