नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी को इन 6 विधियों से करें प्रसन्न, मिलेंगे ये फलदायी परिणाम

डीएन ब्यूरो

शारदीय नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा-अर्चना की जाती है। मां दुर्गा के वे भक्त जो शिक्षा के क्षेत्र में उन्हें इस दिन मां दुर्गा के इस रूप की विशेष रूप से पूजा करनी चाहिये। डाइनामाइट न्यूज़ की इस रिपोर्ट में पढ़ें मां कात्यायनी किस तरह अपने भक्तों पर बरसाती है अद्भुत कृपा

दुर्गा मां का छठा रूप मां  कात्यायनी
दुर्गा मां का छठा रूप मां कात्यायनी

नई दिल्लीः शारदीय नवरात्रि का महीना चल रहा है और मां दुर्गा के भक्त पूरे जोश में हैं। देश के हर राज्य में धूमधाम से मां की पूजा-अर्चना की जा रही है। कहीं मां दुर्गा के पंडाल लगाये गये हैं तो कहीं भक्त मंदिरों में मां के आशीर्वाद के लिए जुट रहे हैं। नवरात्रि के 9 दिनों का विशेष महत्व होता है। मां दुर्गा के अलग-अलग रूपों की इन दिनों में पूजा-अर्चना की जाती है।   

यह भी पढ़ेंः नवरात्रि विशेषः जानिये.. शारदीय नवरात्रि का महत्व और पौराणिक इतिहास 

 

मां दुर्गा का प्रतिरूप मां कात्यायनी

 

डाइनामाइट न्यूज़ की इस रिपोर्ट में पढ़ें नवरात्रि के छठे दिन मां दुर्गा के किस रूप की होती है पूजा, क्या है विधि-विधानः 

1. नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा की जाती है। दुर्गा मां के इस छठे रूप की महिमा अपरंपार है। 

2. देवी कात्यायनी सच्चे भक्तों के लिए अमोघ फलदायिनी मानी गई है। मां की पूजा-अर्चना उन भक्तों के लिए विशेष है जो शिक्षा के क्षेत्र में हैं। उन्हें इस दिन जरूर मां की पूजा करनी चाहिए।     

यह भी पढ़ेंः नवरात्रि पर मां दुर्गा के भक्तों को इस शुभ कार्य से मिलती है सुख-समृद्धि, मां होंगी प्रसन्न

 

शेर पर सवार मां कात्यायनी

3. शारदीय नवरात्रि का छठा दिन सोमवार को यानी 15 अक्टूबर को है। इस दिन देवी कात्यायनी की पूजा करने से गृहस्थों और विवाह की इच्छा रखने वालों को विशेष लाभ मिलता है।
4. मां कात्यायनी शेर पर सवार रहती हैं और इनकी चार भुजायें होती हैं। इनके बाये हाथ में कमल और तलवार है। दाहिने हाथ में स्वस्तिक और आशीर्वाद की मुद्रा अंकित होती है।  

 

मां कात्यायनी की पूजा के लिये सजी थाल

 

यह भी पढ़ेंः जानिये, नवरात्रि पर दिल्ली के इन 6 मंदिरों में जब मां भक्तों पर बरसाती है अनूठी कृपा

5. देवी कात्यायनी का इस मंत्र 'चन्द्रहासोज्जवलकरा शाईलवरवाहना, कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी' का उच्चारण करने से सारी मनोकामनायें पूर्ण होती है।

6. मां का शुभ रंग लाल माना गया है। कात्यायनी मां आदिशक्ति का प्रतीक है। नवरात्रि के छठे दिन भक्तगण देवी की पूजा के लिए अगर लाल वस्त्र पहनते हैं तो यह अति फलदायी होता है।  

(नवरात्रि विशेष कॉलम में डाइनामाइट न्यूज़ आपके लिए ला रहा है हर दिन नयी खबर.. मां दुर्गा से जुड़ी खबरों के लिए इस लिंक को क्लिक करें: https://hindi.dynamitenews.com/tag/Navratri-Special


 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार