सावन स्पेशल: शिव के इन तीन स्वरूपों की करें पूजा, होंगी सभी मनोकामना पूर्ण

डीएन ब्यूरो

सावन का चारों सोमवार में तीसरे सोमवार का काफी महत्व है। सावन के तीसरे सोमवार पर भगवान शिव के तीन स्वरूपों की उपासना करने से अमरता का वरदान मिलता है साथ ही सारी मनोकामना पूरी होती है। पूरी खबर..

फाइल फोटो
फाइल फोटो

नई दिल्ली: इन दिनों हर तरफ सावन की धूम मची हुई है। आज सावन का तीसरा सोमवार है। सावन के तीसरे सोमवार पर शिव की पूजा विशेष लाभकारी मानी जाती है। सावन के तीसरे सोमवार पर भगवान शिव के तीन स्वरूपों की उपासना करने से अमरता का वरदान मिलता है साथ ही सारी मनोकामना पूरी होती है।

यह भी पढ़ें: शिवरात्रि पर भगवान शिव के जलाभिषेक से धन और सुख की होती है प्राप्ति

भगवान शिव का नीलकंठ स्वरुप जिससे नियंत्रित होते हैं ग्रह

समुद्र मंथन के दौरान जब हलाहल विष निकला तो शिव जी ने मानवता की रक्षा के लिए उस विष को पी लिया। उन्होंने विष को अपने कंठ में ही रोक लिया , जिससे उनका कंठ नीला हो गया। नीला कंठ होने के कारण शिव जी के इस स्वरुप को नीलकंठ कहा जाता है।

यह भी पढ़ें: सावन स्पेशल: शिवरात्रि पर काशी विश्वनाथ में श्रद्धालुओं की भारी भीड़, भोले के दर्शन मात्र से मिलता है मोक्ष

ऐसे करें शिव के नीलकंठ स्वरुप की पूजा 

शिव जी के नीलकंठ स्वरुप की उपासना करने के लिए, शिव लिंग पर गन्ने का रस चढ़ाएं और 'ॐ नमो नीलकंठाय' मंत्र का जाप करें। ऐसा करने से ग्रहों की हर बाधा समाप्त होती है। साथ ही शत्रु बाधा, षड़यंत्र और तंत्र मंत्र जैसी चीज़ों का असर नहीं होता है। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार