यूपी में अपराधियों के सिर चढ़कर बोल रहा है एसटीएफ का खौफ, क्यों जतायी शार्प शूटर अंशु दीक्षित ने अपने हत्या की आशंका?

डीएन ब्यूरो

रायबरेली के जिला जेल से एक और नया वीडियो सामने आया है। इस वायरल वीडियो में शार्प शूटर अंशू दीक्षित ने साथियों समेत अपनी हत्या की आशंका जताई है। डाइनामाइट न्यूज एक्सक्लूसिव..

रायबरेली जेल में बंद माफिया शूटर का नया वीडियो आया सामने
रायबरेली जेल में बंद माफिया शूटर का नया वीडियो आया सामने

लखनऊ: कल तक धड़ाधड़ रंगदारी और वसूली को लेकर आम लोगों की हत्या करने वाले गुंडे-माफियाओं के सिर चढ़कर इन दिनों यूपी एसटीएफ का खौफ बोल रहा है। रायबरेली जिला जेल से गुंडे शार्प शूटर अंशू दीक्षित का एक नया वीडियो वायरल हुआ है। इस वीडियो में शार्प शूटर अंशू दीक्षित अपनी और अपने दो अन्य साथियों शोहराब खानऔर डीएस सिंह की हत्या की आशंका जता रहा है। 

 

डाइनामाइट न्यूज़ के हाथ लगे इस वीडियो में यह गुंडा अंशु दीक्षित काफी डरा और सहमा नज़र आ रहा है। कल तक अपने गोलियों से सरेआम लोगों को छलनी करने वाले इस गुंडे के चेहरे पर आज एसटीएफ का खौफ साफ दिख रहा है। 

यह भी पढ़ें: रायबरेली की जेल में बंद कैदियों की महफिल का वीडियो वायरल

यह माफिया इस वीडियो में कहता दिख रहा है कि उसकी जान को यूपी एसटीएफ के आईजी अमिताभ यश और जेल पुलिस से है। ये लोग उसकी और उसके दो दोस्तों की हत्या करा सकते हैं।

 

 

यह भी पढ़ें: रायबरेली जेल से वायरल हुए वीडियो मामले में 6 अफसरों पर गिरी गाज

रायबरेली जिल जेल के अंदर रिवाल्वर-कारतूस के बीच शराब पी रहे कुछ कैदियों का एक वीडियो वायरल हुआ था। वायरल वीडियो में शातिर किस्म के अपराधी जेल में शराब पार्टी कर मौज-मस्ती करते दिखे। इसके बाद यूपी के जेल प्रशासन की जमकर भद पिटी कि कैसे धनउगाही कर गुंडों को जेल में मौज मस्ती की छूट दी जा रही है। इसके बाद मामले लखनऊ में बैठे कारागार विभाग के उच्च अफसरों ने लीपा-पोती के प्रयास तेज कर दिये।

यह भी पढ़ें: रायबरेली: जेल में कैदियों की अय्याशी का वीडियो सामने आने पर देखें क्या बोले एडीजी जेल, चंद्रप्रकाश

लीपा-पोती के बावजूद यूपी की जेलों में भ्रष्टाचार किस कदर व्याप्त है इसका नतीजा आज देखने को मिला कि एक के बाद एक कर दो वीडियो कैदियों ने वायरल करा डाले पहला.. यूपी एसटीएफ के खौफ का और दूसरा खराब खाने, धनउगाही और भ्रष्टाचार का। 

डाइनामाइट न्यूज़ संवाददाता के मुताबिक यह गुंडा अंशु दीक्षित खुद ही एक बार यूपी एसटीएफ के एक पुलिस कर्मी पर गोली चला चुका है और जब इन्हें कुछ नही सुझता और चारों ओर से निराश हो जाते हैं तो अपने बचाव में यूपी एसटीएफ, जिला पुलिस औऱ जेल प्रशासन पर अपनी हत्या का आरोप पेशबंदी में मढ़ने लगते हैं। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार