राष्ट्रपति ने किया ओडीओपी समिट का शुभारम्भ, यूपी के पारंपरिक उत्पादों को मिलेगी नई पहचान

डीएन ब्यूरो

उत्तर प्रदेश के परंपरागत उत्पादों को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय बाजार में नई पहचान दिलाने और रोजगार के ज्यादा अवसर पैदा करने के लिए योगी सरकार द्वारा 'एक जिला एक उत्पाद' (ओडीओपी) योजना लॉच की गयी, इसके लिये आयोजित तीन दिवसीय समिट का शुभारम्भ राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने किया।

समिट के उद्घाटन के मौके पर राष्ट्रपति, राज्यपाल और सीएम योगी
समिट के उद्घाटन के मौके पर राष्ट्रपति, राज्यपाल और सीएम योगी

लखनऊ: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने योगी सरकार द्वारा 24 जनवरी को उत्तर प्रदेश दिवक के मौके पर लॉच की गयी नई योजना 'एक जिला एक उत्पाद' (ओडीओपी) के लिये आयोजित तीन दिवसीय समिट का शुक्रवार को शुभारंभ किया। ओडीओपी के जरिये राज्य के पारंपरिक उत्पादों को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय बाजार में नई पहचान दिलाने के उद्देश्य से शुरू किया गया है। इस समिट में राज्य भर के दस्तकारों, शिल्पकारों एवं उद्यमियों द्वारा शिरकत की जा रही है।

यह भी पढ़ें: DN Exclusive: वाराणसी के हैंडलूम को ओडीओपी समिट में मिली जगह, हस्त निर्मित सिल्क प्रोडक्ट्स की धूम

राष्ट्रपति कोविंद ने दीप प्रज्वलित कर समिट का उद्घाटन किया। इस मौके पर राज्यपाल राम नाईक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री सत्यदेव पचौरी समेत कई अन्य नेता और अधिकारी मौजूद रहे।

 

उत्पादों का अवलोकन करते राष्ट्रपति कोविंद 

 

समिट के उद्घाटन के मौके पर राष्ट्रपति ने राज्य के विभिन्न जिलों से आए चुनिंदा लाभार्थियों को ऋण पत्र भी वितरित किए। वाराणसी,गोरखपुर,मुरादाबाद,आगरा और कानपुर के लाभार्थियों ने इस मौके पर अपने अनुभव राष्ट्रपति के साथ साझा किये। 

 

ऋण पत्र देते राष्ट्रपति कोविंद

समिट के शुभागंभ के बाद राष्ट्रपति ने तीन दिवसीय प्रदर्शनी का अवलोकन किया और इसमें बाग ले रहे लोगों से उनके उत्पादों के बारे में जानकारी भी ली।

गौरतलब है कि ओडीओपी योजना इसी साल 24 जनवरी काे उत्तर प्रदेश दिवस के अवसर पर शुरू की गई थी, जिसका उद्घाटन उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने किया था। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

















आपकी राय

#DNPoll क्या उस भारत का निर्माण हो सका है, जिसका सपना हमारे वीर-शहीदों ने आजादी से पहले देखा था?