महराजगंज: प्रशासन की लापरवाही से अस्‍पताल ही बना बीमारियों का घर

डीएन ब्यूरो

धरातल पर स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं का हाल जानना है तो कोल्‍हुई के प्राथमिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र पर आइए। किस तरह से खुलेआम प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्‍ट स्‍वच्‍छता अभियान को धता बताया जा रहा है। पढ़ें डाइनामाइट न्‍यूज़ की यह कवरेज:

प्राथमिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र में लगा कूड़े का ढेर
प्राथमिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र में लगा कूड़े का ढेर

महराजगंज: केंद्र से लेकर जिला स्‍तर तक का प्रशासन स्‍वच्‍छता अभियान को लेकर तरह-तरह के कार्यक्रम चलाए जाते हैं। जबकि महराजगंज के कोल्‍हुई में प्राथमिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र खुद ही बीमारियों का घर बना हुआ है। परिसर में कूड़ा कचरा के ढेर लगे हुए हैं। वहीं मरीजों के लिए पानी की एक मात्र उम्‍मीद सरकारी हैंडपंप भी जर्जर हालत में खड़ा है। जिसकी भी कोई सुध लेने वाला नहीं है। 

प्राथमिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र कोल्‍हुई, महराजगंज

महराजगंज के कोल्हुई में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में एक तरफ बीमारी से बचने के लिए लोगों को दवाएं देने के साथ साफ-सफाई के लिए जागरूक किया जाता है। बीमारी से बचाव के लिए सबसे अचूक हथियार के रूप में साफ-सफाई को बताया जाता है लेकिन उसी स्वास्थ्य केंद्र का परिसर गंदगी से पटा पड़ा है। यह तो चिराग तले अंधेरे जैसी कहावत को चरितार्थ करता दिखता है।  

स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र पर लगा हैंडपंप खराब

स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र के परिसर में कूड़ा करकट का ढेर लगा हुआ है। सफाई कर्मचारी और स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र के डॉक्‍टर व अन्‍य कर्मचारी भी इसकी सुध नहीं ले रहे हैं। प्रधानमंत्री स्‍वयं स्वच्छ भारत अभियान चलाकर लोगों को साफ सफाई के प्रति जागरूक करना चाह रहे हैं लेकिन सरकारी संस्‍थानों की इस तरह की लापरवाही विचारणीय है। 

साथ ही मरीजों के लिए एक सरकारी हैंडपंप की व्‍यवस्‍था की गई थी वह भी खराब पड़ा है। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार