महराजगंज के व्यापारी को दबंग दरोगा बब्बन सिंह ने बुरी तरह धुना, पिस्टल की नोक पर लॉकअप में किया बंद

डीएन संवाददाता

कानून के रक्षक जब भक्षक बनेंगे तो फिर कैसे सिस्टम चलेगा? एक दबंग और मनबढ़ दरोगा ने निरीह व्यापारी को पिस्टल के बट से बेवजह जमकर पीट दिया। जब दरोगा का मन इससे भी नही भरा तो उसने अपने साथी पुलिस वालों के साथ फिल्मी स्टाइल में व्यापारी को जबरन टांग थाने के लॉकअप में ठूंस दिया। पूरी खबर..

महराजगंज: नगर में बैट्री की दुकान चलाने वाले एक युवा व्यापारी को कुशीनगर जाना महंगा पड़ गया। व्यवसायिक सिलसिले में मंगलवार शाम कप्तानगंज गये व्यापारी विशाल जायसवाल रेलवे ढ़ाले के पास अपनी पिकअप गाड़ी खड़ी कर ढ़ाला खुलने का इंतजार कर रहे थे। उनके साथ गाड़ी में ड्राइवर गंगा प्रसाद और सेल्समैन अश्वनी सिंह भी थे। तब तक सादी वर्दी में इलाके के खूंखार किस्म के दरोगा बब्बन सिंह, सिपाही सुनील व तीन अन्य अज्ञात पुलिस वालों के साथ सादी वर्दी में आये और बिल्कुल फिल्मी अंदाज नें गाड़ी का दरवाजा खोल कर बिना पूछे लगे ताबड़तोड़ व्यापारी विशाल की पिटाई करने।

यह भी पढ़ें: डाइनामाइट न्यूज की झोली में एक और अवार्ड

विशाल व गाड़ी में बैठे उसके दोनों सहयोगियों ने जब पिटाई का कारण पूछा तो कहने लगे कि तुम लोग तस्करी का सामान ले जा रहे हो और फिर धुनाई करते हुए विशाल और ड्राइवर गंगा प्रसाद को थाने के हवालात में ठूंस दिया।  

इस बारे में गुरुवार की शाम को डाइनामाइट न्यूज़ के महराजगंज ब्यूरो कार्यालय पर व्यापारी विशाल जायसवाल ने अाकर अपने साथ हुए इस पुलिसिया अत्याचार की आपबीती रोते हुए सुनाई।

अपनी चोटों को दिखाते हुए विशाल ने बताया कि कैसे रिवाल्वर की बट से अपने नाम के अनुरुप जालिम दरोगा बब्बन सिंह ने उसकी बर्बरतापूर्ण ढ़ंग से पिटाई की है।

चालान की प्रति

जब इस गिरफ्तारी की भनक विशाल के घरवालों और शुभचिंतकों को लगी और वे थाने पहुंचे और गिरफ्तारी का कारण पूछा? तो फिर दरोगा ने कहा कि गाड़ी की नंबर प्लेट ठीक नही है इसलिए यह गिरफ्तारी की गयी है। इसके बाद पुलिस वालों ने नंबर प्लेट के नाम पर 15 सौ रुपये का चालान काटा और रसीद व्यापारी को थमा दी। मामला और आगे बढ़ता इससे पहले दरोगा ने व्यापारी को छोड़ने में भलाई समझी और चालान का पैसा लेने के बाद व्यापारी को लॉकअप से बाहर निकाला और घर जाने दिया।

क्या कहा एसपी कुशीनगर ने

जब डाइनामाइट न्यूज़ ने इस मामले पर कुशीनगर के पुलिस अधीक्षक यमुना प्रसाद से बात की तो उन्होंने कहा कि प्रथम दृष्टया यह मामला गलतफहमी का लगता है। दरोगा किसी बैट्री चोर को ढूंढ़ते के लिए निकले थे। फिलहाल इस मामले की जांच सीओ, कसया को सौंप दी गयी है। जल्द रिपोर्ट आ जाएगी फिर आपको कार्यवाही से अवगत कराया जायेगा।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








आपकी राय

क्या जम्मू-कश्मीर में पीडीपी से समर्थन वापसी भाजपा का लोक सभा चुनाव-2019 के लिये एक राजनीतिक स्टंट है?