महराजगंज आईटीएम में बवाल, तोड़फोड़.. छात्रों की पिटाई.. पुलिस ने कालेज प्रबंधन के आगे टेके घुटने

शिवेंद्र चतुर्वेदी

‘जिंदा जला दूंगा तुम लोगों को’.. यह किसी फिल्म का डॉयलाग नही है बल्कि महराजगंज में अराजकता के माहौल की नंगी तस्वीर है। हंगामा, बवाल और पिटाई.. रसूखदारों के आगे घुटने टेकने वाली महराजगंज पुलिस को यह सब दिखायी नही देता। बवाल की यह खबर महराजगंज जिले के विवादों में रहने वाले प्राइवेट कालेज 'आईटीएम' की है। पूरी खबर..


महराजगंज: डीजीपी साहब.. जरा देखिये.. आपके राज में महराजगंज की कोतवाली पुलिस किस तरह रसूखदारों के आगे घुटने टेकती हैं?

 

 

सरेआम छात्रों का उत्पीड़न होता है, गाली गलौज की जाती है..फिर छात्रों की पिटाई होती है.. इसके बाद आक्रोशित छात्र तोड़फोड़ और बवाल करते हैं। गुंडा-गर्दी मचती है। कानून और व्यवस्था सरेआम तार-तार होती है फिर भी कोतवाली पुलिस दोषियों की गिरफ्तारी तो छोड़िये एफआईआर तक पंजीकृत नही करती और ताकतवरों को बचाने के लिए हर बार का रटा-रटाया डायलाग.. ‘तहरीर नही मिली’ बोलकर ताकतवरों को बचाने में जुट जाती है।

बस में तोड़फोड़ का दृश्य

पुलिस को बड़े बवाल का इंतजार?

ऐसे में क्या यह मान लिया जाय कि अन्याय के शिकार छात्र जब कुछ बड़ी अनहोनी कर बैठेंगे तब जाकर ही कोतवाली पुलिस कुछ करेगी?

मामला बुधवार का है। विवादों का कालेज बन चुके चेहरी स्थित इंस्टीच्यूट ऑफ टैक्नौलाजी एंड मैनेजमेंट (आईटीएम) के छात्रों को कालेज में बिजली कटौती के बीच पढ़ाई करनी पड़ रही थी। हास्टल में जब-तब बिजली गुल हो जा रही थी, जनरेटर चलाया नही जा रहा था, जब इसकी शिकायत कालेज में पढ़ने वाले छात्रों ने कालेज प्रबंधन से की तो उनकी शिकायत को सुलझाने की बजाय उनके साथ गाली-गलौज की गयी और उनको पीट दिया गया।

बवाल का दृश्य

आईटीएम में जिंदा जला दूंगा..

निजी कालेज 'आईटीएम' के सचिव विनय श्रीवास्तव के द्वारा छात्रों और अपने स्टाफ को दी गयी गालियों का आडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है लेकिन ये कोतवाली पुलिस को नही दिखायी दे रहा। वायरल वीडियो में सचिव ने भद्दी-भद्दी गालियां बकने के क्रम में कहा “मैं उसी आईटीएम में तुम लोगों को जिंदा जला दूंगा.. क्या हमको तुम बनिया समझते हो?” 

छात्रों ने ITM के शिक्षक शशांक श्रीवास्तव से बिजली व्यवस्था के बारे में जब बात करनी चाही तो उन्होंने छात्र की पिटाई कर दी। 

धनबल के आगे नतमस्तक हुई पुलिस

गालीबाजी और पिटाई के विरोध में छात्रों में आक्रोश फैल गया और उन्होंने जमकर हंगामा किया और तोड़-फोड़ की। कालेज की बस का शीशा भी तोड़ा गया। सबसे आश्चर्य की बात तो यह है कि कालेज के गेट पर ही पुलिस चौकी है, इन सबके बावजूद पुलिस को कुछ नही दिखा। पुलिस समूचे मामले में तहरीर न मिलने की आड़ में धन के नशे में चूर कालेज कालेज प्रबंधन के पक्ष में पार्टी बनकर खड़ी हो गयी है।

परीक्षा में फेल करने की गीदड़भभकी

पुलिस ने एक बार भी कालेज प्रबंधन के सचिव व शिक्षक से पूछताछ तक नही की और उल्टे छात्रों को धमकाने लगी कि प्रबंधन से झगड़ा मोल मत लो तुमको परीक्षा के दौरान फेल कर देंगे।

घमंड में चूर प्रबंधक ने नही उठाया फोन

जब इस समूचे मामले में डाइनामाइट न्यूज़ ने आईटीएम के सचिव विनय श्रीवास्तव का पक्ष लेना चाहा तो उन्होंने फोन तक उठाना मुनासिब नही समझा।

कालेज के मेन गेट पर टंगी तख्ती.. विनय श्रीवास्तव मुर्दाबाद

कालेज के मेन गेट पर टंगी तख्ती.. विनय श्रीवास्तव मुर्दाबाद

पुलिस और आईटीएम प्रबंधन के खिलाफ छात्रों का गुस्सा लगातार जारी है.. अब से कुछ देर पहले छात्रों ने उत्पीड़न के विरोध में कालेज के मेन गेट पर विरोध प्रदर्शन स्वरुप विनय श्रीवास्तव मुर्दाबाद की तख्ती टांग दी है और छात्रों का विरोध-प्रदर्शन जारी है। यदि पुलिस इसी तरह कालेज के सचिव को बचाने में जुटी रही तो बड़ी अनहोनी की आशंका से इंकार नही किया जा सकता। जिसका जवाब देना पुलिस के बड़े अफसरों को महंगा पड़ जायेगा।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …