लापरवाह रेलवेः उन्नाव स्टेशन पर यात्रियों की जान पड़ी आफत में, चित्रकूट का इंजन हुआ फेल

डीएन ब्यूरो

रेलवे की लापरवाही यात्रियों पर कहर बनकर टूट रही है। इस बार जबलपुर से लखनऊ के लिए रवाना हुई चित्रकूट एक्सप्रेस का इंजन उन्नाव स्टेशन पर फेल हो गया। यहां जब रेलवे को इसकी सूचना मिली तो अधिकारियों के हाथ-पांव फुल गए। आखिर रेलवे की घोर लापरवाही के पीछे किसका है हाथ ,पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ की इस रिपोर्ट में

चित्रकूट एक्सप्रेस
चित्रकूट एक्सप्रेस

उन्नावः रेलवे की खामी एक बार फिर यात्रियों पर तब भारी पड़ गई जब जबलपुर से लखनऊ के लिए चली चित्रकूट एक्सप्रेस का इंजन उन्नाव स्टेशन पर फेल हो गया। यह कोई पहली बार नहीं है जब रेलवे की तकनीकी खामी यात्रियों पर भारी न पड़ी हो। इससे पहले भी रेलवे की लापरवाही के कई मामले सामने आ चुके हैं। वो तो गनीमत रही कि लोको पायलट ने समय रहते परिचालन विभाग के अधिकारियों को सूचना दे दी नहीं तो बड़ी अनहोनी हो सकती थी।     

यह भी पढ़ेंः DN Exclusive: 20 साल का Google कैसे बना दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन.. जाने पूरी कहानी  

 

चित्रकूट एक्सप्रेस

इंजन के फेल होने से रेल यातायात सुबह 9.20 बजे तक ठप रहा इसे यात्रियों को अपने गंतव्य पर पहुंचने में परेशानी का सामना करना पड़ा। यूपी अभी हाल ही में रायबरेली के पास भी रेल हादसा हुआ था जिसमें न्यू फरक्का एक्सप्रेस पटरी से उतर गई थी इस हादसे में 7 लोगों की मौत व 35 से अधिक यात्री घायल हुए थे।

क्यों बार-बार रेलवे की लापरवाही आ रही सामनेः     

 

रायबरेली में हुआ रेल हादसा

1. ट्रेनों का पटरी से उतर जाना यह कोई नहीं बात नहीं है। इसके पीछे लोकोपायलट ही नहीं बल्कि रेलवे महकमा भी जिम्मेदार है।

2. तकनीकी खामी के चलते कई बार ट्रेन के इंजन फेल हो जाते हैं। इसके लिए रेलवे के तकनीकी विभाग को इसकी जिम्मेवारी समझनी होगी।   

यह भी पढ़ेंः संयुक्त राष्ट्र की मदद से लीबिया ने सैंकड़ों शरणार्थियों को निकाला

 

न्यू फरक्का एक्सप्रेस

 

 

3. अधिकारियों व कर्मचारियों में तालमेल की कमी भी इसकी सबसे बड़ी वजह है।

4. यात्रियों की भारी तादाद और नई ट्रेनों का नहीं होना भी इसकी सबसे बड़ी वजह है।

5. रेलवे के कर्मचारियों को भी तकनीकी चीजों के बारे में उतनी समझ नहीं है। इसका खामियाजा यात्रियों को भुगतना पड़ता है।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार