क्या कानपुर इमारत हादसे से हम सीखेंगे कोई सबक?

विशाल शुक्ला

इमारत हादसे में 10 लोगों की हुई मौत

इमारत का रेस्क्यू आपरेशन
इमारत का रेस्क्यू आपरेशन

कानपुर। बीते दिनों चकेरी इलाके के पोखरपुर में सपा नेता महताब आलम की 6 मंजिला निर्माणाधीन बिल्डिंग अचानक गिरने से मरने वालों की संख्या बढ़कर दस हो गयी है। इस हादसे में काफी लोग घायल भी हुए थे। जिसके बाद से काफी लोगों के दबे होने की संभावनाएं जताई जा रही थी।

 

एनडीआरएफ के रेस्क्यू आपरेशन के दो-तीन दिन बाद कयास लगाए जा रहे थे कि मलबे में शायद अब कोई नहीं है जिसके बाद काम रोक दिया गया, रविवार को इलाकाई लोगों को मलबे के पास से गंध आने लगी जिसके बाद इसकी शिकायत प्रशासन से की। स्थानीय लोगों का कहना है कि जल्द से जल्द इस मलबे को हटाया नहीं गया तो मोहल्ले में बीमारी फैल सकती है जिसके बाद प्रशासन ने दोबारा राहत कार्य का काम शुरु कर दिया।

 

अपनों की खोज में परिजन

इमारत हादसे में अपनों की खोज में लोग अधिकारियों के पास पहुंचे उनका कहना है कि हमारे अपने भी इसी मलबे में हैं, वही इस बीच पीड़ित परिजन और अधिकारियों के बीच नोकझोंक भी हुई जिसके बाद प्रशासन के आदेश पर दोबारा काम शुरु करवाया गया। मलबे को हटाने के लिए पोकलेन मशीन को लाया गया देर रात कड़ी मशक्कत के बाद दो शवों को निकाला गया। परिजनों ने एक शव की पहचान कर ली है जबकि दूसरे की पहचान नहीं हो पायी है। फिलहाल राहत कार्य जारी है मलबे में अभी भी और लोगों के दबे होने की आशंकाएं जताई जा रही हैं।

 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार