इनामी बदमाश व पूर्व सांसद जवाहर जायसवाल की गिरफ्तारी पर महराजगंज में जश्न, बांटी जा रही है मिठाइयां

डीएन ब्यूरो

महराजगंज जिले के गड़ौरा चीनी मिल के गन्ना किसानों के करोड़ों रुपये डकारने वाले 25 हजार के इनामी बदमाश व पूर्व सांसद जवाहर जायसवाल को यूपी एसटीएफ ने गिरफ्तार कर लिया गया है। यह सूचना जब डाइनामाइट न्यूज़ के माध्यम से महराजगंज जिले के किसानों को मिली तो वहां जश्न का माहौल हो गया। लोगों ने जमकर मिटाईयां बांटी..


महराजगंज: इनामी बदमाश व पूर्व सांसद जवाहर जायसवाल की गिरफ्तारी को लेकर किसानों की खुशी का ठिकाना नहीं है। पूर्व सांसद जवाहर जायसवाल को मध्य प्रदेश के दमोह जिले से यूपी एसटीएफ की टीम ने शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया है। किसान इससे बेहद खुश हैं। उन्होंने आज सुबह मिल गेट पर मिठाई बांटकर अपनी खुशी का इजहार किया। 

यह भी पढ़ें: किसानों का 23 करोड़ डकारने वाला इनामी हिस्ट्रीशीटर पूर्व सांसद जवाहर जायसवाल गिरफ्तार, हत्या के मामले में था वांछित

भुगतान और गन्ना मिल न चलने से करीब 16 हजार किसानों कई दिनों से धरना प्रदर्शन तथा भूख हड़ताल कर रहे थे। जवाहर जायसवाल पहले से ही हत्या के मामले में वांछित था। एसटीएफ की टीम ने उसे बहुत मशक्कत के बाद गिरफ्तार कर लिया है। महराजगंज जिले में इसकी जेएचवी गड़ौरा चीनी मिल है। जहां गन्ना किसानों का इसने 23 करोड़ रुपये डकार रखा है। जवाहर जायसवाल वाराणसी के कैंट थाने का हिस्ट्रीशीटर है।

जायसवाल की गिरफ्तारी पर एक दूसरे का मुंह मीठा करते किसान

 

जेएचवी शुगर मिल गडौरा गेट पर भूख हड़ताल पर बैठे मनोज कुमार राना, लल्लन साहनी, परमानंद चौधरी ने बातचीत के दौरान बताया कि जवाहर जायसवाल की गिरफ्तारी से किसानों में खुशी की लहर तो है ही लेकिन हमारा मकसद मिल को चालू कराना और बकाया भुगतान दिलवाना है। उन लोगों का कहना है कि जब तक मिल चालू नहीं हो जाती और किसानों का बकाया भुगतान नहीं मिल जाता हम भूख हड़ताल पर जारी रखेंगे भले ही हमारी मृत्यु क्यों न हो जाए।

23 अप्रैल 2012 को अर्दली बाजार निवासी बैंक कर्मी महेश जायसवाल की गोली मार कर हत्या कर दी गई थी। महेश के भाई संत प्रसाद की याचिका पर हाईकोर्ट के हस्तक्षेप के बाद बाप-बेटे का नाम विवेचना में सामने आया था। अदालत ने गैर जमानती वारंट जारी किया तभी से दोनों घर छोड़ कर भागे हुए हैं। फिलहाल दोनों की तलाश में पुलिस टीमें की राज्यों में इसे तलाश। रही थीं। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

Loading Poll …