क्या तीर्थयात्री अमरनाथ की यात्रा कर पायेंगे?

डीएन संवाददाता

अमरनाथ यात्रा का शुभारंभ 29 जून से हो रहा है। लेकिन तीर्थयात्री अमरनाथ का दर्शन कर पाएंगे, ये अभी कह पाना मुश्किल है।

इंटरनेट स्रोत
इंटरनेट स्रोत

श्रीनगर: अमरनाथ की यात्रा 29 जून से शुरू हो रही है। ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि क्या तीर्थयात्री आसानी से अमरनाथ की यात्रा कर पाएंगे? ये सवाल इसलिए क्योंकि चीन ने एक बार फिर अपनी दादागिरी दिखाते हुए भारत की ओर कड़ा रुख अपनाया है। चीन ने मानसरोवर यात्रा को बंद कर दिया है। चीन की ओर से नाथुला दर्रे रास्ते को बंद कर दिया गया है। चीन ने साफ तौर पर कहा है कि जब तक भारत सिक्किम बॉर्डर से अपनी सेना नहीं हटाएगा तब तक वह इस मार्ग को नहीं खोलेगा। ऐसे में ये सवाल उठना लाज़मी है कि क्या तीर्थयात्री आसानी से अमरनाथ की यात्रा कर पाएंगे?

यह भी पढ़े: श्री खाटू श्याम जी श्याम बाबा

अमरनाथ तीर्थयात्रियों का पहला जत्था बुधवार को यहां से रवाना किया गया। आतंकवादी हमलों की खुफिया सूचना के मद्देनजर तीर्थ यात्रियों के पहले जत्थे को कड़ी सुरक्षा के बीच कश्मीर स्थित अमरनाथ गुफा के लिए रवाना किया गया। अमरनाथ यात्रा गुरुवार से शुरू हो रही है।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि कुल 2,280 तीर्थयात्रियों को भगवती नगर यात्री निवास से 72 वाहनों के जरिये अनंतनाग जिले में स्थित हिमालयी गुफा के लिए सुबह 5:22 बजे रवाना किया।उन्होंने कहा, तीर्थयात्रियों के काफिले में कुल 1,811 पुरुष, 422 महिलाएं और 47 साधु-संत शामिल हैं। इन्हें केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के वाहनों की सुरक्षा में ले जाया गया है।

यह भी पढ़े: क्या आप भी राजधानी ट्रेन से सफर करते हैं? अगर हां तो यह खबर जरूर पढ़ें

घाटी में कानून-व्यवस्था की खराब स्थिति के मद्देनजर तीर्थयात्रियों के कठुआ जिले के लखनपुर में प्रवेश के बाद से ही उनकी सुरक्षित यात्रा के लिए सेना, सीआरपीएफ, सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) और जम्मू और कश्मीर पुलिस द्वारा बहुस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था के इंतजाम किए गए हैं। प्रशासन ने जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित जवाहर सुरंग में अपराह्न् 3:30 बजे के बाद तीर्थयात्रियों के किसी वाहन को प्रवेश नहीं करने देने का फैसला लिया है।

पुलिस अधिकारी ने कहा, यह इसलिए किया गया, ताकि यात्री सुरंग के रास्ते सात घंटे में बालटाल आधार शिविर तक पहुंच जाएं और उन्हें राते में रात में न रुकना पड़े और रात में यात्रा न करनी पड़े।

यह भी पढ़े: अगर आप भी पासपोर्ट बनवाना चाहते हैं तो यह ख़बर आपके लिए है..

इस बीच, वरिष्ठ अलगाववादी नेता सैयद अली गिलानी ने कहा कि तीर्थयात्री घाटी के लोगों के मेहमान हैं और उन्हें कोई नुकसान नहीं पहुंचाएगा और न ही उन्हें कोई उनके धार्मिक अनुष्ठान करने से रोकेगा।आतंकवादियों द्वारा यात्रा बाधित करने के प्रयास की खुफिया जानकारी के कारण अधिकारियों ने 40 दिन लंबी यात्रा के लिए सुरक्षा बढ़ा दी है।

इस साल 2.12 लाख श्रद्धालुओं ने पवित्र गुफा में बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए पंजीकरण कराया है, जो समुद्र तल से 14,000 फुट की ऊंचाई पर है।  (एजेंसी) 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार