आज ही के दिन पहली बार महात्मा गांधी और रवीन्द्रनाथ टैगोर मिले थे शांतिनिकेतन में..

डीएन ब्यूरो

इतिहास में आज के दिन का विशेष महत्व है। आज के दिन देश (भारत) और दुनिया (विश्व) में कई महत्वपूर्ण घटनाएं घटी जो हमेशा के लिए इतिहास के पन्नों में दर्ज होकर रह गईं हैं। भारतीय एवं विश्व इतिहास में 4 मार्च की प्रमुख घटनाएं..

महात्मा गांधी और रवीन्द्रनाथ टैगोर (फाइल फोटो)
महात्मा गांधी और रवीन्द्रनाथ टैगोर (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: इतिहास में आज के दिन का विशेष महत्व है। आज के दिन देश (भारत) और दुनिया (विश्व) में कई महत्वपूर्ण घटनाएं घटी जो हमेशा के लिए इतिहास के पन्नों में दर्ज होकर रह गईं हैं। भारतीय एवं विश्व इतिहास में 4 मार्च की प्रमुख घटनाएं..

-1508-बाबर के बेटे हुमायूं का अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में जन्म हुआ।

-1775-रघुनाथ राव ने पहले एंग्लो-मराठा युद्ध को समाप्त करने को लेकर अंग्रेजों के साथ सूरत की संधि पर हस्ताक्षर किये।

-1886- नर्सों की पहली पत्रिका नाइटिन्गेल प्रकाशित हुई।

 

-1915-राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और रवीन्द्रनाथ टैगोर पहली बार शांतिनिकेतन में मिले।

-1944- द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान अमेरिका ने मित्र देशों के साथ मिलकर बर्लिन पर भारी बमबारी की।

-1947- ब्रिटेन के प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल ने भारत से ब्रिटिश सैनिकों को हटाये जाने का विरोध करने की घोषणा की।

-1960- स्विट्जरलैंड ने स्थानीय निकाय चुनाव में महिलाओं को मतदान करने का अधिकार दिया।

-1961- भारत का पहला वित्तीय डेली समाचार पत्र ‘द इकोनोमिक टाइम्स’ टाइम्स आफ इंडिया समूह द्वारा बॉम्बे में लॉन्च हुआ।

-1962- महान क्रांतिकारी और योद्धा अंबिका चक्रवर्ती का निधन।

-1971- सुनील गावस्कर ने वेस्ट इंडीज के खिलाफ पोर्ट ऑफ स्पेन में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया।

-1981 - अमेरिका के राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन ने 37000 संघीय नौकरियों में कटौती करने की घोषणा की।

-1990- भारत ने इंदिरा गांधी गोल्ड कप हॉकी टूर्नामेंट का खिताब जीता।

-2007- दक्षिण चीन में एक कोयला खदान में विस्फोट में कम से कम 15 श्रमिकों की मौत हो गई।2013-सीरियाई विद्रोहियों का यहां के प्रमुख शहर एर-रक्का पर कब्जा। (वार्ता)

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

#DNPoll क्या लगता है इस बार के लोकसभा चुनाव में बेरोज़गारी व महँगाई जैसी असली समस्या मुद्दे बन पायेंगे?