आज ही के दिन सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक का हुआ था जन्म

डीएन ब्यूरो

कहते हैं इतिहास से सीखने वाले देश समाज को बेहतरी की ओर ले जाते हैं। इसीलिए इतिहास को सबसे अच्‍छा शिक्षक कहा जाता है। इतिहास में सिर्फ घटनाएं दर्ज नहीं होती हैं, वह हमें उन विषम परिस्थितियों से बचने के उपाय भी याद दिलाता है जो भविष्‍य में होने की संभावना रखती हैं। आज ही के दिन की इतिहास में कई विशिष्‍ट घटनाएं दर्ज हैं।15 अप्रैल की कुछ प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं..

गुरु नानक देव जी
गुरु नानक देव जी

नई दिल्ली: इतिहास में आज के दिन देश (भारत) और विश्व इतिहास में कई महत्‍वपूर्ण घटनाएं घटित हुई थी। जिन्‍होंने इतिहास के पन्‍नों में खुद को दर्ज कराया। 15 अप्रैल की कुछ प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं..

1452: इटली के महान चित्रकार लिओनार्दो दा विंची का जन्म।

1469: सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक का जन्म हुआ।

1563: सिक्खों के पांचवें गुरु गुरु अर्जन देव का जन्म।

1689: फ्रांस ने स्पेन के खिलाफ युद्ध की घोषणा की।

1817: अमेरिका में बधिर बच्चों के लिए पहला स्कूल खोला गया।

1865: खड़ी बोली के प्रथम महाकाव्यकार अयोध्यासिंह उपाध्याय का जन्म।

1895: बाल गंगाधर तिलक ने रायगढ़ किले में शिवाजी उत्सव का उद्घाटन किया।

1923: डाइबिटीज से पीड़ित लोगों के लिए इंन्सुलिन बाजार में उपलब्ध हुआ।

1927: तत्कालीन सोवियत संघ और स्विट्जरलैंड राजनयिक संबंध बनाने पर सहमत हुए।

1948: हिमाचल प्रदेश राज्य की स्थापना आज ही के दिन हुई।

1955: अमेरिका ने नेवादा परीक्षण स्थल पर परमाणु परीक्षण किया।

1994: भारत सहित 109 देशों द्वारा 'गैट' समझौते की स्वीकृति।

1998: थम्पी गुरु के नाम से प्रसिद्ध फ़्रेडरिक लेंज का निधन।

2000: आतंकवाद से निपटने के लिए सहयोग के आहवान के साथ 'जी -77 शिखर सम्मेलन' हवाना में सम्पन्न।

2003: ब्रिटेन में आयरिश रिपब्लिकन आर्मी ने हथियार डाल देने का निर्णय लिया।

2004: राजीव गांधी हत्याकांड से जुड़े लिट्टे उग्रवादी वी. मुरलीधरन की कोलम्बो में हत्या की गई।

2012: पाकिस्तान की एक जेल पर हुए हमले के बाद 400 आतंकवादी फरार हुए।

2013: इराक में हुए बम विस्फोट से तक़रीबन 35 लोगों की जान गयी और 160 घायल हुए।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

#DNPoll क्या आपको लगता है जनता के असली मुद्दों को लेकर मोदी और राहुल के बीच आमने-सामने की डिबेट होनी चाहिये?