अलगाववादियों ने कश्मीर में बुलाया बंद, सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद

डीएन संवाददाता

जम्मू एवं कश्मीर में सोमवार को अलगाववादियों की ओर से आहूत बंद के मद्देनजर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। अलगाववादियों ने रविवार को श्रीनगर-बडगाम संसदीय सीट के लिए उपचुनाव के दौरान हुई हिंसा में आठ लोगों की मौत के बाद सोमवार को बंद का आह्वान किया है।

फ़ाइल फ़ोटो
फ़ाइल फ़ोटो

श्रीनगर: जम्मू एवं कश्मीर में सोमवार को अलगाववादियों की ओर से आहूत बंद के मद्देनजर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। अलगाववादियों ने रविवार को श्रीनगर-बडगाम संसदीय सीट के लिए उपचुनाव के दौरान हुई हिंसा में आठ लोगों की मौत के बाद सोमवार को बंद का आह्वान किया है।

यह भी पढ़ें: श्रीनगर- बडगाम में उपचुनाव के दौरान भीड़ ने किया मतदान केंद्र पर हमला, 3 लोगों की मौत

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, "कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम किए गए हैं। " श्रीनगर-बडगाम संसदीय सीट के लिए रविवार को हुए उपचुनाव के दौरान भीड़ ने बडगाम में लगभग 100 जगह मतदान केंद्रों पर हमला किया और इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) के साथ तोड़फोड़ की थी।

फ़ाइल फोटो

सुरक्षा बलों की ओर से की गई कार्रवाई में आठ लोगों की मौत हो गई, जिनमें से सात की मौत बडगाम में और एक की गांदरबल जिले में हुई।  अलगाववादियों ने इसके विरोध में बंद का आह्वान किया है। बाजार, सार्वजनिक परिवहन, शैक्षणिक संस्थान तथा अन्य व्यवसाय श्रीनगर तथा घाटी में अन्य स्थानों पर बंद हैं।

यह भी पढ़ें: कश्मीर में बाढ़ का कहर, पीएम मोदी ने मुफ्ती को दिया हर संभव मदद का भरोसा

कश्मीर विश्वविद्यालय ने सोमवार तथा मंगलवार को पूर्व निर्धारित सभी परीक्षाएं स्थगित कर दी हैं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी शांत मनु ने रविवार को बताया कि 50-100 मतदान केंद्रों पर पुनर्मतदान कराए जाएंगे, जहां हिंसा के कारण चुनाव प्रक्रिया बाधित हुई।

उपचुनाव के दौरान रविवार को केवल सात प्रतिशत मतदान हुआ, जो पिछले 27 साल में सबसे कम है। निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि अगले चरण का उपचुनाव 12 अप्रैल को दक्षिण कश्मीर की अनंतनाग संसदीय सीट पर होगा। इस बीच, असामाजिक तत्वों की ओर से अफवाह फैलाने पर रोक लगाने के लिए घाटी में इंटरनेट सेवाएं 12 अप्रैल तक स्थगित करने का फैसला लिया गया है।  (आईएएनएस)

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार