जर्मनी ने यूरोपीयन यूनियन में पेश किया मसूद अजहर को अंतरराष्‍ट्रीय आतंकी घोषित करने का प्रस्ताव

डीएन ब्यूरो

संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद में मसूद अजहर को अंतरराष्‍ट्रीय आतंकी घोषित होने से चीन ने बचा लिया था। लेकिन अब विश्‍व के दूसरे देशों ने अन्‍य समूहों में उसके खिलाफ प्रस्‍ताव लाया जा रहा है।

मसूद अजहर
मसूद अजहर

नई दिल्‍ली: संयुक्‍त राष्‍ट्र में मसूद अजहर को अंतरराष्‍ट्रीय आतंकी घोषित करने के लिए फ्रांस ने प्रस्‍ताव पेश किया था। लेकिन चीन के सुरक्षा परिषद में वीटो लगाने के कारण प्रस्‍ताव रद हो गया था। अब जर्मनी यूरोपीयन यूनियन में मसूद अजहर को अंतरराष्‍ट्रीय आतंकी घोषित करने के लिए प्रस्‍ताव लाने जा रहा है।

गौरतलब है कि पुलवामा में 14 फरवरी को सेना के वाहनों पर आतंकी हमला हुआ था। जिसमें भारत के 40 से अधिक जवानों की शहादत हो गई थी। जिसके बाद से भारत ने दुनियाभर में पाकिस्तान को घेरने का काम किया। कुछ हद तक भारत अपनी इस रणनीति में सफल भी रहा है। 

भारत की घेराबंदी का ही असर था कि फ्रांस ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर के खिलाफ अंतरराष्‍ट्रीय आतंकी घोषित करने संबंधी प्रस्ताव पेश किया था। जिसका समर्थन अमेरिका, ब्रिटेन  ने भी किया था। लेकिन चीन के वीटो पावर के कारण मौलाना मसूद अजहर अंतरराष्‍ट्रीय आतंकी घोषित होने से बच गया था। 

पहले चरण में है अभी प्रस्‍ताव 

अब यूरोपियन यूनियन में जर्मनी मसूद अजहर के खिलाफ प्रस्ताव लाने वाला है। जर्मनी ने इस प्रस्ताव को अभी सिर्फ पेश किया है, इसी पर किसी तरह के समाधान का प्रस्ताव पास अभी तक नहीं हुआ है। 

सूत्रों की मानें तो जर्मनी इस प्रस्ताव को लेकर कई सदस्य देशों के संपर्क में है। अगर यह पहल काम करती है तो यूरोप के करीब 28 देशों में में उसके आने जाने पर प्रतिबंध लगा जाएगा।

प्रस्‍ताव सफल हुआ तो 28 देशों में नहीं जा पाएगा आतंकी

यदि इस प्रस्‍ताव को यूरापि‍यन यूनियन में सभी 28 देशों को समर्थन मिलता है तो पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के खिलाफ कड़ी कार्रवाई संभव होगी।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

#DNPoll क्या आपको लगता है जनता के असली मुद्दों को लेकर मोदी और राहुल के बीच आमने-सामने की डिबेट होनी चाहिये?