LIVE: क्या गुजरात के नतीजे लोक सभा चुनाव पर डालेंगे असर?

डीएन ब्यूरो

गुजरात और हिमाचल प्रदेश के चुनाव के नतीजों की अगर बात करें तो अब हर तरफ सिर्फ यही चर्चा है कि क्या इसका कोई असर 2019 के लोक सभा चुनावों पर पड़ेगा? इसी का विश्लेषण करती डाइनामाइट न्यूज़ की यह खास रिपोर्ट..


नई दिल्ली: गुजरात चुनाव के नतीजें भले ही भाजपा के पक्ष में रहे हो लेकिन इसमें दो राय नहीं कि कांग्रेस यहां सत्तारूढ़ बीजेपी को कड़ी टक्कर देने में सफल रही। इन चुनावों में कई अहम फैक्टर रहे। डाइनामाइट न्यूज़ की संपादकीय टीम के मनोज टिबड़ेवाल आकाश और सुभाष रतूड़ी ने इन कारणों पर फेसबुक LIVE के माध्यम से विस्तृत चर्चा की। इस चर्चा में यह निकलकर सामने आया कि 2019 के चुनाव में विपक्ष को हल्के में लेना भाजपा के लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है। 

चर्चा की 10 प्रमुख बातें

1. भाजपा ने पिछले 2012 के विधान सभा में कुल 115 सीटें जीती थी, जबकि इस बार ग्राफ घटा है और लगभग 100 सीट पर जीत मिली।

2. 22 साल तक विपक्ष में रहने के बाद सत्ता में वापसी की उम्मीद लगा रही कांग्रेस को भले ही इस बार भी हार का सामना करना पड़ा हो, लेकिन इस हार के बाद भी फिर भी कांग्रेस के पास खुश होने की कई वजहें हैं।

3. भाजपा का गढ़ माने जाने वाला सौराष्ट्र में कांग्रेस ने भाजपा की झोली से कई सीटें निकाली हैं। 

4. सौराष्ट्र में लगभग 55 सीट हैं, जहां कांग्रेस ने पिछली बार केवल 16 सीटें जीती थीं जबकि इस बार कांग्रेस को वहां लगभग 30 सीटें मिली है। 

5. सौराष्ट्र में पटेलों की भी अच्छी तादाद है, इस आधार पर कहा जा सकता है कि कांग्रेस के प्रति पटेलों का भरोसा मजबूत हुआ है।

6. पिछले चुनाव में 60 के करीब सीटें जीतने वाली कांग्रेस पार्टी को इस बार कई सीटों का फायदा हुआ है। कांग्रेस ने कई ऐसी सीटें भी जीती है, जिन पर लंबे समय से भाजपा का कब्जा था।

7. राहुल गांधी के कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष बनने के बाद आये गुजरात के ये चुनाव नतीजे भले ही पार्टी के पक्ष में न हों, लेकिन व्यक्तिगत तौर पर कई मायनो में राहुल गांधी को इससे राजनीतिक बढ़त मिली है और उनके नेतृत्व पर भरोसा जगा है।

8. लोकसभा चुनाव में भाजपा को 60 फीसदी मत मिले थे जबकि इस विधानसभा के चुनाव में उसका वोट प्रतिशत करीब 11 फीसदी गिर गया और उसे महज 49 फीसदी वोट मिले।

9. कांग्रेस को 41.5 फीसदी वोट इस बार मिले।

10. सूरत जिला इस बार भाजपा की जीत में निर्णायक साबित हुआ। 

 

 

 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार