भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक का आगाज, चुनाव के साथ दलित बनाम सवर्ण पर भी बनेगी रणनीति

डीएन संवाददाता

देश में पिछले कुछ दिनों से सवर्ण बनाम दलित का विवाद गहराने लगा है, इसके लिये सीधे तौर पर मोदी सरकार को जिम्मेदार माना जा रहा है। शनिवार से दिल्ली में शुरू हुई भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में भी पार्टी इस विवाद से पार पाने समेत आगामी विधान सभा चुनाव को लेकर नई रणनीति तय करेगा। डाइनामाइट न्यूज़ की स्पेशल रिपोर्ट

ऑफिस बीयर्स को संबोधित करते पार्टी अध्यक्ष अमित शाह
ऑफिस बीयर्स को संबोधित करते पार्टी अध्यक्ष अमित शाह

नई दिल्ली: पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव से ठीक पहले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की दो दिवसीय बैठक दिल्ली में शुरू हो गयी है। आंबेडकर इंटरनैशनल सेंटर में हो रही इस बैठक में भाजपा इस बैठक में चुनावी रणनीति बनाने के साथ ही सवर्ण बनाम दलित को लेकर देश में गहराते विवाद से भी पार पाने की कोशिश पार्टी द्वारा की जायेगी।

 

 

पार्टी की यह बैठक इस साल के अंत में होने वाले तीन राज्यों के विधान सभा चुनावों के अलावा 2019 में देश भर में होने वाले लोक सभा की चुनाव के लिये भी काफी अहम है। लोक सभा चुनावों के मद्देनजर विपक्षी पार्टियों के संभावित महागठबंधन से निपटने के लिये भी पार्टी इस बैठक में महत्वूर्ण फैसले लेगी। 

 

देश के पूर्व प्रधानमंत्री और भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के बाद पार्टी की यह पहली राष्ट्रीय कार्यकरिणी की बैठक है, जिसमें पार्टी फिर एक बार अटल जी के काम और नाम के साथ आगे बढ़ने की रणनीति तैयर कर सकती है। आंबेडकर इंटरनैशनल सेंटर में चारों तरफ अटल की तस्वीरें नजर आ रही है। इसके अलावा संगठन की मजबूती और विधानसभा चुनावों में जीत सुनिश्चित करने की दिशा में भी मंथन किया जायेगा।

इस दो दिवसीय बैठक का औपचारिक उद्घाटन पार्टी अध्यक्ष अमित शाह द्वारा किया गया। इस मौके पर अमित शाह उद्घाटन सत्र में ऑफिस बीयर्स को भी संबोधित किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को पार्टी के देश भर के नेताओं को संबोधित करेंगे। पीएम मोदी के संबोधन के साथ ही भाजपा की दो दिवसीय बैठक का समापन होना है। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार