बहराइच: इंडो-नेपाल बॉर्डर पर पनप रहा नशे का कारोबार

डीएन ब्यूरो

जिले का रुपईडीहा बॉर्डर पर स्मैक का कारोबार एक उद्योग का रूप लेता जा रहा है। पुलिस इस कारोबार पर अंकुश लगाने में नाकामयाब दिख रही है। अब तक दर्जनो लोग इसकी चपेट में आ चुके हैं लेकिन इसके बावजूद भी यह थमने का नाम महीं ले रहा है।

फाइल फोटो
फाइल फोटो

बहराइच: जिले के रुपईडीहा बॉर्डर पर स्मैक का काला कारोबार एक उद्योग का रूप लेता जा रहा है। यहां स्मैक पीने के लिए युवक-युवतियां का जमावड़ा सुबह से ही लगना शुरू हो जाता है। यह कारोबार यहां खुलेआम चल रहा है। बीते एक वर्ष में कस्बे के एक दर्जन से अधिक लोगों की स्मैक पीने की वजह से मौत हो चुकी है, लेकिन इसके बावजूद भी पुलिस इस अवैध कारोबार के खिलाफ कोई ठोस कदम नहीं उठा पा रही है। यही कारण है कि यह कारोबार यहां तेजी से फल फूल रहा है।

रुपईडीहा के इलाके नई बस्ती,बरथनवां,मुस्लिमबाग एवं रुपईडीहा गाँव स्मैक की बिक्री का मुख्य केंद्र है और यहीं से नेपाल के लिये स्मैक की तस्करी भी की जाती है। स्मैक व चरस के कई बड़े सौदागर इसकी बिक्री का काम अपने घर से ही करते  है, मगर पुलिस सब कुछ जानते हुए भी अंजान बनी हुई है। आलम यह है कि स्मैक के व्यापारियों ने छोटे छोटे बच्चों को स्मैक की डिलिवरी देने के लिए लगा रखा है। कस्बे का  युवा वर्ग पूरी तरह बर्बादी के कगार पर है। 

बॉर्डर पर फल फूल रहे तस्करी का यह कारोबार कई बड़े सौदागरों के इशारे पर होता है, इसी वजह से पुलिस उन पर हाथ नही डाल रही है और इसलियो खुलेआम बॉर्डर पर नशे का कारोबार कर रहा है। अब देखना होगा कि क्या जिले के उच्चधिकारी स्मैक के इन सौदागरों पर कैसे नकेल कसते हैं।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार