अटल की अंतिम यात्रा जारी, भाजपा मुख्यालय में दर्शन के लिये भारी भीड़, पीएम मोदी समेत कई नेता रहे मौजूद

डीएन ब्यूरो

देश के पूर्व प्रधानमंत्री और भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी को नम आंखों से अंतिम विदायी दी जा रही है। अटल का पार्थिव शरीर भाजपा मुख्यालय पहुंच चुका है, जहां उनके चहेते अटल के अंतिम दर्शन कर सकेंगे। डाइनामाइट न्यूज़ पर देखें अटल की अंतिम यात्रा की पल-पल की अपडेट..

अटल का पार्थिव शरीर मुख्यालय  की ओर जाता हुआ
अटल का पार्थिव शरीर मुख्यालय की ओर जाता हुआ

नई दिल्ली: देश के पूर्व प्रधानमंत्री और भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी को नम आंखों से अंतिम विदायी दी जा रही है। दिवंगत अटल का पार्थिव शरीर उनके घर से भाजपा मुख्यालय पहुंच चुका है। जहां उनके चहेते अटल के अंतिम दर्शन कर सकेंगे। अटल जी के अंतिम के अंतिम यात्रा निकलने के बाद में घर एक दम सूना पड़ गया है। भाजपा मुख्यालय में दिवंगत नेता के अंतिम दर्शन के लिए हजारों की संख्याा में लोग पहले से ही लाइनों में लगे हुए हैं।

यह भी पढ़ें: अटल बिहारी वाजपेयी का अंतिम संस्कार शुक्रवार 4 बजे 

पार्थिव शरीर निकलने के बाद में सूनसान पड़ा वाजपेयी का घर

 

दोपहर 1 बजे तक अटल के अंतिम दर्शन के लिए भाजपा मुख्यालय में रखा जाएगा। जहां नेताओं से लेकर आम जनता भी उनको श्रद्धांजलि देने पहुंच रहे हैं। उसके बाद दोपहर एक बजे  बाद उनकी अंतिम यात्रा निकाली जाएगी।

 

 

यह भी पढ़ें: अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिया भावुक संदेश 

अंतिम दर्शन के बाद में 4 बजे स्मृति स्थल पर उनका अंतिम संस्कार किया जायेगा।

 

 

राजधानी दिल्ली के एम्स में गुरूवार को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने अंतिम सांस ली। वाजपेयी की सेहत पिछले कुछ दिनों से चिंताजनक थी। एम्स के द्वारा जारी मेडिकल बुलेटिन के मुताबिक अटल बिहारी ने बीते दिन शाम को 5 बजकर 5 मिनट पर अंतिम सांस ली।

 

 

भारत रत्न वाजपेयी की मौत की खबर से पूरे देश में गमगीन माहौल है। वाजपेयी के चहेतों में गहरा शोक है। आम और खास हर व्यक्ति.. अपने लोकप्रिय नेता के निधन पर गहरे गम में डूबा हुआ है।

 

 

वाजपेयी एक कुशल और करिश्माई राजनेता होने के अलावा एक शानदार कवि भी रहे हैं। उन्होंने आम जीवन के उतार-चढ़ावों को अपनी रचनाओं में बखूबी उतारा है।

 

 

यहां तक कि संसद में खास मौकों पर वह भाषण की अपेक्षा कविता के जरिये अपनी बात ज्यादा प्रभावकारी तरीके से रखते थे और समूचा विपक्ष समेत सभी सांसद उनकी कविताओं को ध्यान से सुनता था।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार