जानिये, एक जोड़ी जूते और 6 शर्ट रखने वाले अब्दुल कलाम कैसे बने ‘मिसाइल मैन’

डीएन ब्यूरो

भारत मां के उस लाल को आज पूरा देश याद कर रहा है, जिसे मिसाइल मैन के नाम से जाना जाता है। आज ही के दिन तमिलनाडु के रामेशवरम में जन्मे देश के 11वें राष्ट्रपति APJ अब्दुल कलाम के जीवन से जुड़ी छह बातें। डाइनामाइट न्यूज़ की विशेष पेशकश में पढ़िये एपीजे APJ अब्दुल कलाम के बारे में

पूर्व राष्ट्रपति APJ अब्दुल कलाम (फाइल फोटो)
पूर्व राष्ट्रपति APJ अब्दुल कलाम (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः 15 अक्टूबर 1931 को दक्षिण भारतीय राज्य तमिलनाडु के रामेश्वरम में एक ऐसे महापुरुष का जन्म हुआ जो बाद में मिसाइल मैन कहलाया और जिसने भारत को तकनीकीकरण में विश्वपटल पर एक ऐसे पायदान पर खड़ा किया जिसे दुनिया एपीजे अब्दुल कलाम के नाम से जानती है।    

 

एपीजे अब्दुल कलाम (फाइल फोटो)

 

भारत के 11वें राष्ट्रपति और महान वैज्ञानिक कलाम साहब का आज जन्मदिन है। बच्चों के चेहते और धर्म व राजनीति से ऊपर उठकर भारत मां के इस लाल पर आज दुनिया को गर्व है।     

यह भी पढ़ेंः जानिये, आज का दिन भारत के लिए क्यों है खास, देश को इसलिए इन पर है नाज

एपीजे अब्दुल कलाम साहब से जुड़ी वो छह बातें जिस पर हर भारतीय को है नाज   

 

पूर्व पीएम इंदिरा गांधी के साथ एपीजे अब्दुल कलाम (फाइल फोटो)

 

1.एक नाविक के घर में जन्मे एपीजे अब्दुल कलाम की पढ़ाई को लेकर जो जुनून था वह देश ने तभी देख ली थी जब यह नन्हा बालक  गरीबी से गुजर बसर करने वाले परिवार में अखबार बेचने के लिए ट्रेनों में चढ़ता था और इससे जो भी कुछ आमदनी होती थी उसे घर में और अपनी पढ़ाई पर लगाता था।

2.पांचवी क्लास में कलाम के शिक्षक सुब्रह्मण्यम अय्यर की वो बात कि चिढ़िया कैसे उड़ती है और इसकी शरीर की बनावट के बारे में विस्तार से पढ़ाने पर कलाम के लिये यह एक प्रेरणा बन गई और यहीं से शुरू हुआ एयरोस्पेस टेक्नोलॉजी में इतिहास रचने का सफर।    

 

यह भी पढ़ेंः जानिये.. युवाओं के दिलों में आज भी क्यों बसते हैं वीर शहीद भगत सिंह..

बच्चों के प्रिय एपीजे अब्दुल कलाम (फाइल फोटो)

3.कलाम साहब ने अपने पूरे कार्यकाल में सिर्फ 2 छुट्टियां ली थीं। वह भी एक अपने पिता के देहांत के समय और दूसरी अपनी मां की मृत्यु के समय। शायद ही दुनिया में कोई ऐसा शख्स होगा जिसने ऐसा कारनामा किया हो।

4.देश को अग्नि एवं पृथ्वी जैसी मिसाइलें देकर कलाम ने स्वदेशी तकनीक का एक नया नमूना पेश में विश्वस्तर पर भारत को एक नई दिशा दिखाई। भारत ने कलाम साहब की ही बदौलत परमाणु हथियार के निर्माण की क्षमता प्राप्त करने में सफलता प्राप्त की।      

यह भी पढ़ेंः पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल के जन्मदिन पर देखें उनकी लंदन, दक्षिण अफ्रीका और भूटान यात्रा

 

एपीजे अब्दुल कलाम (फाइल फोटो)

 

यह भी पढ़ेंः जन्मदिन विशेष: देश की पहली महिला राष्ट्रपति प्रतिभा देवीसिंह पाटिल के कुछ यादगार इंटरव्यू

5.सादा जीवन और उच्च विचार वाली जीवशैली जीने वाले कलाम की संपत्ति ना के बराबर थी। संपत्ति के रूप में उनके पास सिर्फ 2500 किताबें, एक घड़ी और 6 कमीज, चार पैंट व तीन सूट और एक जोड़ी जूते मात्र थे।

6.आधुनीकीकरण के युग में जब 21वीं सदी को कलाम ने विश्वस्तर पर विज्ञान-प्रद्यौगिकी में एक प्रमुख स्थान पर लाकर खड़ा किया। उनके पास इस बदलाव को देखने के लिए घर में टीवी तक नहीं था और वो देश-दुनिया में चल रही गतिविधियों को अखबार पढ़कर और रेडियो में समाचार सुनकर अपनी दिनचर्या का आगाज करते थे।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …