20 साल के बाद अमावस्या और नवरात्र एक ही दिन पड़े, चैत्र नवरात्र 28 मार्च से शुरू होगा

डीएन ब्यूरो

भारतीय नववर्ष के प्रथम दिन से प्रारंभ होने वाला चैत्र नवरात्र 28 मार्च से शुरू होगा। नवरात्रि में देवी की पूजा अर्चना करने का विशेष महत्व है। नौ दिनों तक चलने वाली इस पूजा में देवी दुर्गा के नौ स्वरूपों की आराधना की जाएगी।

चैत्र नवरात्र

नई दिल्ली: इस बार अमावस्या और नवरात्र एक ही दिन पड़ रहे हैं। ऐसे में श्रद्धालुओं में भ्रम है कि वह सुबह अमावस्या के पितृ कार्य करें या फिर नवरात्र की कलश स्थापना। पंडितों के अनुसार करीब 20-22 साल के बाद ऐसा संयोग पड़ा है जब तिथियों में इस तरह का फेर देखा जा रहा है।

यह भी पढ़ें: भारत में एक ऐसा मंदिर है जहां प्रसाद के रुप में बर्गर और ब्राउनी मिलता है, कहां है आखिर यह मंदिर आप भी पढ़िए

 अमावस्या

यह भी पढ़ें: शीतला माता पुजा (बास्योडा) का शास्त्रीय आधार

पंचांगों के अनुसार 28 मार्च को सुबह 8:27 बजे से चैत्र अमावस्या समाप्त हो रही है। वहीं चैत्र शुक्ल प्रतिप्रदा तिथि इसी दिन 8:28 बजे से शुरू हो रही है, जो अगले दिन यानी 29 मार्च को सुबह 6:25 बजे समाप्त हो जाएगी। शहर में बड़ी संख्या में लोग अमावस्या को पितरों के लिए दान पुण्य करते हैं और गाय को रोटी देते हैं, जबकि नवरात्र पर कलश स्थापना होती है। नोएडा सेक्टर-19 स्थित सनातन धर्म मंदिर के पंडित विरेंद्र का कहना है कि प्रतिपदा 28 मार्च को ही है। इसमें भ्रमित होने की जरूरत नहीं है। करीब 20-22 साल बाद तिथियों की ऐसी चाल बनी है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार