आज ही के दिन पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की आत्मघाती हमले में हो गई थी मौत

डीएन ब्यूरो

इतिहास में आज के दिन देश (भारत) और विश्व इतिहास में कई महत्‍वपूर्ण घटनाएं घटित हुई थी। जिन्‍होंने इतिहास के पन्‍नों में खुद को दर्ज कराया। आज ही के दिन भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की एक जनसभा में हत्‍या कर दी गई थी। 21 मई की कुछ प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं..

राजीव गांधी (फाइल फोटो)
राजीव गांधी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: 1984 में इंदिरा गांधी की हत्या के बाद उनके पुत्र राजीव गांधी भारी बहुमत के साथ प्रधानमंत्री बने थे। उसके बाद 1989 के आम चुनावों में कांग्रेस की हार हुई। 1991 के आम चुनाव में प्रचार के दौरान तमिलनाडु के श्रीपेरंबदूर में एक भयंकर बम विस्फोट में राजीव गांधी की मौत हो गई थी।

राजीव गांधी का पूरा नाम राजीव रत्‍‌न गांधी था। इनका जन्म 20 अगस्त, 1944 को मुंबई में हुआ था। राजीव गांधी जवाहर लाल नेहरू के प्रपौत्र और फिरोज गांधी व देश की प्रथम महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के पुत्र थे। उनका विवाह एन्टोनिया माईनो से हुआ जो उस समय इटली की नागरिक थी। विवाहोपरान्त उन्‍होंने अपना नाम बदलकर सोनिया गांधी कर लिया। कहा जाता है कि राजीव गांधी से उनकी मुलाकात तब हुई जब राजीव कैम्ब्रिज में पढ़ने गये थे।

भारतीय एवं विश्व इतिहास में 21 मई की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार है- 

1502 - पुर्तगाल के जोआओ दा नोवा ने दक्षिण अटलांटिक महासागर में सेंट हेलेना द्वीप की खोज की।

1688 - ब्रितानी कवि अलेक्जेंडर पॉप का जन्म।1790 - पेरिस को 48 क्षेत्रों में विभाजित किया गया।

1840 - न्यूजीलैंड को ब्रिटेन का उपनिवेश घोषित किया गया।

1851 - कोलंबिया में गुलामी प्रथा समाप्त।

1904- पेरिस में फुटबॉल की सर्वोच्च संस्था अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल महासंघ (फीफा) की स्थापना हुई।

1918 - अमेरिकी प्रतिनिधिसभा ने महिलाओं को मतदान की अनुमति दी।

1929 - भारत की पहली एयर कार्गो सेवा कलकत्ता (अब कोलकाता) और बागडोगरा के बीच शुरू हुई।

1935 - पाकिस्तान का क्वेटा शहर भूकंप में बुरी तरह तबाह, 30 हजार से अधिक लोगों की मौत।

1991 - पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की मद्रास (अब चेन्नई) के श्रीपेंरबदूर में हुए आत्मघाती बम हमले में मौत।

1994- सुष्मिता सेन 43वें मिस यूनिवर्स के पुरस्कार से नवाजी गईं।

2002 - बंगलादेश के पूर्व राष्ट्रपति एच.एम. इरशाद को छह महीने कारावास की सज़ा।

2003 - विश्व के 190 से भी अधिक देशों ने तम्बाकू के ख़िलाफ अंतर्राष्ट्रीय संधि को जिनेवा में मंजूरी दी।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार