महराजगंज नगर पालिका अध्यक्ष: भाजपा में दावेदारों की लंबी फौज, किसके सिर सजेगा सेहरा?

शिवेंद्र चतुर्वेदी

पिछड़े वर्ग के लिए आरक्षित कुर्सी पर कब्जे के लिए बड़ी संख्या में दावेदार उभरे हैं। सबसे अधिक मारामारी सत्तारुढ़ भाजपा में है। कौन-कौन हैं टिकट के दावेदार और इनके दावे में कितनी है मजबूती? इसी की पड़ताल करती डाइनामाइट न्यूज़ की यह एक्सक्लूसिव रिपोर्ट..

जिला भाजपा कार्यालय
जिला भाजपा कार्यालय

महराजगंज: 20 साल तक अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित रहने वाली महराजगंज नगर पालिका अध्यक्ष की कुर्सी भले ही सामान्य नही हो पायी औऱ पिछड़े वर्ग के लिए आरक्षित हो गयी, इसके बाद भी दर्जन भर दावेदार अकेले भाजपा से टिकट मांग रहे हैं।

यह भी पढ़ें: महराजगंज में आरक्षण ने बिगाड़े कई प्रमुख दावेदारों के समीकरण

डाइनामाइट न्यूज़ महराजगंज नगर पालिका अध्यक्ष से जुड़ी हर एक खबर सबसे पहले आप तक पहुंचा रहा है। इस कड़ी में आज हम बात कर रहे हैं कि सत्तारुढ़ भाजपा से कौन-कौन टिकट के लिए दावा ठोंक रहा है? और इनके दावे में कितनी मजबूती है? 

ये हैं टिकट के दावेदार

सानंदन पटेल
नीरज कश्यप
सुरेश मोदनवाल
ओम प्रकाश पटेल
कृष्ण गोपाल जायसवाल
चौधरी विजय सिंह
संजय वर्मा 
सुरेश मद्धेशिया

राजेश मद्धेशिया 

निर्णायक भूमिका में हैं सांसद
डाइनामाइट न्यूज़ को सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक टिकट उसी को मिलेगी जिसे स्थानीय सांसद पंकज चौधरी चाहेंगे। वजह यह है कि निकाय चुनावों में राष्ट्रीय नेतृत्व कोई हस्तक्षेप नही करता और इस समय सांसद की पकड़ प्रदेश नेतृत्व पर मजबूती से है। वैसे भी सदर की सीट होने की वजह से सांसद चाहेंगे कि यहां उनका कोई खास आदमी ही बैठे।

यह भी पढ़ें: जिले में कहां है आरक्षण का क्या गणित?

संघ की पसंद भी रखेगी मायने

एक सूत्र ने यह भी खबर दी है कि संघ की पसंद यहां भाजपा की टिकट में कोई उलटफेर भी कर सकती है। 

दावे की वजह
दावेदारों में दो ऐसे हैं जो पैसे के दम पर टिकट पर अपना दावा मजबूत मान रहे हैं तो दो दावेदार सांगठनिक क्षमता के दम पर तो एक टिकटार्थी विभिन्न मुद्दों पर किये गये अपने संघर्षों के दम पर टिकट पाना चाह रहे हैं। दो दावेदार तो बिल्कुल हवा-हवाई हैं जो बहती गंगा में हाथ धो लेना चाहते हैं।

यह भी पढ़ें: यूपी निकाय चुनाव में महापौर, नगर पालिका और नगर पंचायत अध्यक्षों के आरक्षण घोषित

जातिगत समीकरण भी रखेगा मायने
दावेदारों में सबसे अधिक कुर्मी और वैश्य समुदाय से हैं। अब यहां जातिगत समीकरण भी मायने रखेगा और भाजपा नेतृत्व को इस पर भी ध्यान देना पड़ेगा। 

क्या कहना है जिलाध्यक्ष का
इस बारे में जिलाध्यक्ष अरुण शुक्ल ने डाइनामाइट न्यूज़ को बताया कि 28 अक्टूबर के बाद कभी भी प्रदेश नेतृत्व टिकट का ऐलान कर देगा। 

पोस्टर वार जारी
टिकट के ऐलान में लगभग दस दिन का ही समय बचा है ऐसे में सभी दावेदार पोस्टर वार में कोई कमी नही छोड़ना चाह रहे हैं ताकि नेतृत्व कहीं से भी उनके दावे को कमजोर न समझे।

(डाइनामाइट न्यूज़ पर आपको महराजगंज नगर पालिका चुनाव से जुड़ी हर एक खबर सबसे पहले मिलेगी। नि:शुल्क मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए 9999 450 888 पर मिस्ड काल करें)

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार