पढ़िये, एनकाउंटर में गैंगस्टर विकास दुबे की मौत पर क्या बोली शहीद कांस्टेबल सुल्तान सिंह की पत्नी

डीएन ब्यूरो

गैंगेस्टर विकास दुबे के एनकाउंटर में मारे जाने को लेकर कुछ राजनीतिक पार्टियां कई तरह के सवाल उठा रहे हैं वहीं शहीद पुलिस कर्मियों के परिजनों ने भी इस घटना पर अपनी अहम प्रतिक्रिया दी है। पूरी खबर..

शहीद पुलिसकर्मी की पत्नी उर्मिला देवी
शहीद पुलिसकर्मी की पत्नी उर्मिला देवी

कानपुर: चौबेपुर थाना के बिकरु गांव में पुलिस हत्याकांड में मोस्ट वांटेड अपराधी विकास दुबे को यूपी एसटीएफ द्वारा आज एक मुठभेड़ में मार गिराया गया है। इस गैंगस्टर के मारे जाने को लेकर कुछ राजनीतिक पार्टियां कई तरह के सवाल उठा रहे हैं वहीं शहीद पुलिस कर्मियों के परिजन इस एनकाउंटर को लेकर खुश है। पुलिस द्वारा हिस्ट्रीशीटर को मारे जाने पर शहीदों के परिजनों की मांग है कि इस मामले से जुड़े सभी लोग बेनकाब होने चाहिये।

बिकरु गांव में 2 जुलाई की रात शहीद हुए चौबेपुर थाने के शहीद पुलिस कांस्टेबल सुल्तान सिंह की पत्नी उर्मिला वर्मा का कहना है कि विकास दूबे की मौत से वह पूरी तरह संतुष्ट है। उसे पुलिस ने उसके किये की सजा दी है।

 इस एनकाउंटर को लेकर उर्मिला वर्मा कहती है इससे वे लोग अब बेनकाब नहीं हो सकेंगे, जिनके द्वारा इस अपराधी को संरक्षण दिया जा रहा था और जो पीछे से विकास दूबे को अपना समर्थन दे रहे थे। उनका कहना है कि विकास दूबे के पीछे जो लोग थे, उनको लेकर जो सवाल हैं, वे अब हमेशा के लिये अनुत्तरित रह गये हैं।  

गौरतलब है कि कल गुरूवार को उज्जैन में पकड़े गये गैंगस्टर विकास दूबे को आज कानपुर लाते समय रास्ते में पुलिस द्वारा मार गिराया गया। उज्जैन से लाते वक्त रास्ते में कानपुर के करीब उसने पुलिसवालों के हथियार छीनकर भागने की कोशिश की और पुलिस एनकाउंटर में मारा गया। 

पुलिस की गोली लगने के बाद विकास दूबे को लाला लाजपत राय हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने इस अपराधी को मृत घोषित किया। अस्पताल के प्रिंसिपल डॉ. आरबी कमल ने बताया कि विकास दुबे के सीने पर तीन और हाथ में एक गोली लगी थी। सीने में गोली लगने के कारण उसकी मौत हुई। 
 








संबंधित समाचार