महराजगंज: नशीले पदार्थों के सेवन का अड्डा बना मुख्यालय परिसर का पार्क, हर शाम सजाई जाती है महफिल

डीएन ब्यूरो

मुख्यालय परिसर के पार्क में आपको लोग या बच्चे घूमते हुए नहीं दिखेंगे,बल्कि नशेड़ी दिखेंगे। जो हर शाम अपनी अय्याशी करने के लिए यहां जमा हो जाते हैं। सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात ये है कि इन नेशड़ियों को किसी का डर भी नहीं है। पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ की ये खास खबर..

मुख्यालय परिसर के पार्क में शराब की बोतलें
मुख्यालय परिसर के पार्क में शराब की बोतलें

महराजगंज: मुख्यालय परिसर का पार्क अब घूमने के लिए या बच्चों के खेलने के लिए नहीं बल्कि शाम को महफिल जमाने के लिए इस्तेमाल किया जाने लगा है। यहां के पार्क अब नशीले पदार्थों के सेवन का अड्डा बन चुके हैं। यहां हर शाम लोग शराब पीने के लिए आते हैं। शराब के साथ-साथ यहां पर सिगरेट और नशे की हर चीज की जाती है। ये सारे काम लोग बिना किसी डर के करते हैं, उन्हें प्रशासन या पुलिस किसी का भी डर नहीं है। 

यह भी पढ़ें: महराजगंज: शौच के लिए निकली महिला पर चाकू से हमला, हालत गंभीर

 

मुख्यालय परिसर का पार्क अब नशीले पदार्थों के सेवन का अड्डा बन चुका है। जनपद मुख्यालय परिसर में स्थित राम मनोहर लोहिया ज्ञान सरोवर पार्क में हर शाम को महफ़िल सज जाती है। जहां बोतलों की झड़ी भी लगाई जाती है फिर महखाने जैसा माहौल तैयार होता है और सिगरेट के छल्ले भी उड़ाए जाते हैं। यह नजारा काफी हैरान करने वाला होता है क्योंकि इन नशेड़ियों को किसी का भी जरा भी डर नहीं है। वहीं दूसरी तरफ पार्क से सटे ही जिलाधिकारी और अन्य सभी आला अधिकारियों का आवास भी है। 

यह भी पढ़ें: बड़ी खबर: सपना चौधरी की बढ़ी मुसीबत, मुरादाबाद में केस दर्ज, शिवसेना ने अश्लीलता फैलाने का लगाया आरोप

पार्क का गेट

सुत्रों के मुताबिक बोतलों के सुख जाने के बाद एसडीएम के आवास के ठीक सामने पड़ने वाले पटरी पर बोतलों को पटक कर तोड़ दिया जाता है। जिससे यहाँ आने वाले आगन्तुकों को हानि भी पहुंच सकती है। ऐसे में प्रशासन द्वारा कोई ठोस कदम नही उठाया गया तो यहाँ कभी भी कोई बड़ी दुर्घटना हो सकती है। जिसे नकारा नहीं जा सकता क्योंकि नशा ही नाश की जड़ होती है। इस पार्क के ठीक बगल में ही लगे झूलों पर शाम को खेलने और मनोरंजन के लिए छोटे बच्चों का तांता लगा रहता था। लेकिन अब आलम यह है कि इन नशेड़ियों के डर से बच्चों के अभिवावक अब उन्हें यहां भेजने से कतराते है।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार