आर्थिक तंगी से जूझ रहे पाकिस्तान में आया नया संकट, इमरान खान की उड़ी नींद

डीएन ब्यूरो

आर्थिक तंगी से जूझ रहे पाकिस्तान की जनता को महंगाई ने बेहाल कर रखा है। मई माह में खाद्य पदार्थों और ईंधन के दामों में जोरदार बढ़ोतरी से मई में महंगाई की वार्षिक उपभोक्ता मुद्रास्फीति एक माह पहले की 8.82 प्रतिशत की तुलना में बढ़कर 9.11 प्रतिशत पर पहुंच गई।

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

इस्लामाबाद: आर्थिक तंगी से जूझ रहे पाकिस्तान की जनता को महंगाई ने बेहाल कर रखा है। मई माह में खाद्य पदार्थों और ईंधन के दामों में जोरदार बढ़ोतरी से मई में महंगाई की वार्षिक उपभोक्ता मुद्रास्फीति एक माह पहले की 8.82 प्रतिशत की तुलना में बढ़कर 9.11 प्रतिशत पर पहुंच गई। 

पाकिस्तान सांख्यिकी ब्यूरो के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार मई में मुद्रास्फीति की औसत दर 7.19 प्रतिशत रही। मई-19 में थोक मूल्य सूचकांक की महंगाई 1.43 प्रतिशत और संवेदनशील मूल्य सूचकांक 0.78 प्रतिशत उछल गया। ब्यूरो के अनुसार मुद्रास्फीति को बढ़ाने में मुख्य रूप से ईंधन और खाद्य पदार्थों का योगदान रहा। 

आलोच्य अवधि में खाद्य पदार्थों में प्याज के दाम 77.52 प्रतिशत, तरबूज 55.73, टमाटर 46.11, नींबू 43.46 और चीनी 26.53 प्रतिशत मंहगी हो गई। लहसुन 49.99, मूंग 33.65, आम28. 99 और मटन के दाम 12.04 प्रतिशत बढ गए। अन्य खाद्य पदार्थों की कीमतों में भी बढ़ोतरी हुई। ईंधन में गैस के दाम में 85.31 प्रतिशत पेट्रोल 23.63 प्रतिशत हाई स्पीड डीजल की कीमत में 23.86 प्रतिशत की वृद्धि हुई। बस का किराया 51.16, बिजली 8.48 और मकान किराये में 6.15 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी हुई है। (वार्ता)

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार