पहले हुए राष्ट्रपति चुनाव से अलग है इस बार का चुनाव, जानिए कैसे..

डीएन संवाददाता

पहले हुए राष्ट्रपति चुनाव से इस बार का राष्ट्रपति चुनाव बहुत अलग है। इससे जुड़े कई तथ्य ऐसे हैं जो जानने लायक हैं। इस रिपोर्ट के जरिए जानिए राष्ट्रपति और राष्ट्रपति चुनाव से संबंधित कुछ रोचक बातें..

राष्ट्रपति भवन
राष्ट्रपति भवन

नई दिल्ली: आज देश के उच्चतम पद के लिए मतदान शुरू हो गया है। राष्ट्रपति पद के लिए दो उम्मीदवार आमने-सामने हैं। एनडीए की तरफ से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद और यूपीए की तरफ से मीरा कुमार हैं। कुछ दिनों में देश को नया राष्ट्रपति मिल जाएगा।

20 जुलाई को मतगणना के बाद ही तय होगा कि देश का अगला राष्ट्रपति कौन होगा? इसके बाद 25 जुलाई को नये राष्ट्रपति शपथ लेंगे। अगर वोटों की संख्या के आधार पर देखा जाए तो अब तक रामनाथ कोविंद का पलड़ा भारी है। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में जानिए राष्ट्रपति चुनाव को लेकर कुछ रोचक बातें..

राष्ट्रपति चुनाव से जुड़ी अहम जानकारी

इस बार के राष्ट्रपति चुनाव में विशेष सीरियल नंबर वाले पेन और इंक का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके जरिए निर्वाचक मंडल के सदस्य वोट डाल रहे हैं। इस बार सदस्यों को दूसरा कोई और पेन वोटिंग चैंबर के अंदर ले जाने की इजाजत नहीं है। उपराष्ट्रपति चुनाव में भी इसका प्रयोग होगा। इस बार अलग-अलग रंगों के बैलेट पेपर का इस्तेमाल किया जा रहा है। सांसदों के लिए हरे रंग का और विधायकों के लिए गुलाबी रंग का बैलेट पेपर है।

अब तक के राष्ट्रपति से जुड़ी कुछ जानकारियां 

1. राष्ट्रपति चुनाव में यह दूसरा मौका होगा जब देश का राष्ट्रपति दलित समुदाय से होगा। इससे पहले पूर्व राष्ट्रपति केआर नारायणन दलित समुदाय से थे, जो राष्ट्रपति बने थे।

2. वीवी गिरी 1969 से 1974 तक भारत के राष्ट्रपति रहे। वीवी गिरी पहले ऐसे शख्स रहे, जिन्होंने कार्यवाहक राष्ट्रपति का भी कार्यभार संभाला। उनको कार्यवाहक राष्ट्रपति पद की जिम्मेदारी तत्कालीन राष्ट्रपति जाकिर हुसैन के निधन के बाद दिया गया था।

3. नीलम संजीव रेड्डी एकमात्र ऐसे राष्ट्रपति थे जिनको निर्विरोध चुना गया था। हालांकि इस चुनाव में कुल 37 लोगों ने नामांकन किया था लेकिन 36 उम्मीदवारों का नामांकन खारिज कर दिया गया था।

4. देश के पहले राष्ट्रपति डा. राजेंद्र प्रसाद अब तक के ऐसे राष्ट्रपति हैं, जो दो साल लगातार राष्ट्रपति के पद पर रहे।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार