नए मिशन की तैयारी में नासा, पता चलेगा सूरज का वातावरण

डीएन संवाददाता

नासा अपने नए मिशन की तैयारी कर रहा है। इस मिशन के दौरान नासा सूरज के वातावरण के बारे में अध्ययन करेगा।

नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन
नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन

नई दिल्ली: नैशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (नासा) अपने नए मिशन की तैयारी में जुटा है। दरअसल नासा सूरज के वातावरण के बारे में अध्ययन करना चाहता है। नासा एक रोबोटिक एयरक्राफ्ट को सूर्य पर भेजने की प्लानिंग कर रहा है। नासा अगले साल तक इस एयरक्राफ्ट को सूर्य की ओर भेजने की तैयारी में है। 31 मई को 11 बजे आयोजित एक इवेंट में वैज्ञानिक इसके बारे में घोषणा करेगें। शिकागो के विलियम एखर्ड अनुसंधान केंद्र ऑडिटोरियम विश्वविद्यालय में एक इवेंट आयोजित किया जाएगा जिसका प्रसारण सीधा नासा टीवी पर लाइव होगा।

श्रोत: इंटरनेट

मैरीलैंड में गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर के नासा के एक शोध वैज्ञानिक एरिक ईसाई ने कहा, सूर्य के लिए उड़ान भरने के लिए हमारा पहला मिशन है। यह निश्चित है कि सूर्य के अधिक पास नहीं जाया जा सकेगा। लेकिन सूर्य को लेकर कुछ सवालों के उत्तर पाए जा सकते हैं। बता दें कि अंतरिक्ष यान सूरज की सतह के 4 मिलियन मील की दूरी तक ही जाएगा।

यह भी पढ़ें: ट्रंप के संशोधित यात्रा प्रतिबंध के आदेश को संघीय अदालत की नामंजूरी

वैज्ञानिकों को सूर्य की बाहरी वायुमंडल, या कोरोना के माध्यम से सौर हवा को समझने में मदद मिलेगी। जब तक वैज्ञानिक यह नहीं बता सकते कि सूर्य के नजदीक क्या हो रहा है, तब तक वह अंतरिक्ष मौसम के प्रभाव का सही अनुमान नहीं लगा पाएंगे। नासा का कहना है कि ये मिशन 'एक विशाल सौर घटना' का अनुमान लगाने में मदद कर सकता है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार