मुजफ्फरनगर ट्रेन हादसा: 13 रेल कर्मचारी बर्खास्त

डीएन ब्यूरो

कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस हादसे में यह बात साफ हो गयी कि रेल कर्मचारी यदि लापरवाही नहीं बरतते तो 23 लोगों की मौत और 115 लोग घायल नहीं होते।

रेल हादसे का दृश्य
रेल हादसे का दृश्य

नई दिल्ली: मुजफ्फरनगर के खतौली में 10 दिन पूर्व हुए भयंकर रेल हादसे में लापरवाही को लेकर 13 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया गया है। रेलवे द्वारा की गयी इस कार्रवाई से साफ हो गया है कि कर्मचारी अगर लापरवाही नहीं बरतते तो 23 लोगों की मौत नहीं होती। इस हादसे को खुद पीएमओ ने संज्ञान लिया था और रिपोर्ट तलब की थी।

रेलवे के डीजी पीआर अनिल सक्सेना ने इस हादसे में लापरवाह रेलवे कर्मचारियों के खिलाफ की गयी उक्त कार्रवाई की जानकारी दी। उन्होंने 13 कर्मचारियों को नौकरी से निकालने की घोषणा की। जांच में कर्मचारियों के बयान में भारी विरोधाभास सामने आये।

गौरतलब है कि 19 अगस्त का शाम पुरी से हरिद्वार जा रही कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस के 10 डिब्बे पटरी से उतर गए थे। यह हादसा मुजफ्फरनगर के खतौली में हुआ था, जिसमें 23 लोगों की मौत हो गई, जबकि 115 लोग घायल हैं।  इस महीने में कुल 3 रेल हादसे हुए जिनमें यह सबसे भीषण हादसा था। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार