भारतीय राजनीति का ऐतिहासिक क्षण..24 साल बाद मायावती-मुलायम सिंह ने साझा किया एक मंच, अखिलेश यादव भी रहे मौजूद

डीएन ब्यूरो

सपा-बसपा-रालोद गठबंधन की शुक्रवार को मैनपुरी में चौथी रैली हुई। इस रैली के दौरान 24 साल बाद सपा संरक्षक मुलायम सिंह और बसपा सुप्रीमो मायावती ने मैनपुरी में साथ मंच साझा किया। रैली में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव भी मौजूद रहे। डाइनामाइट न्यूज़ की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट..

मायावती-मुलायम सिंह व अखिलेश यादव
मायावती-मुलायम सिंह व अखिलेश यादव

मैनपुरी: सपा-बसपा-रालोद गठबंधन की शुक्रवार को मैनपुरी में चौथी रैली हुई। इस रैली के दौरान 24 साल बाद सपा संरक्षक मुलायम सिंह और बसपा सुप्रीमो मायावती ने मैनपुरी में साथ मंच साझा किया। रैली में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव भी मौजूद रहे। रैली को संबोधित करते हुए मुलायम सिंह, मायावती और अखिलेश यादव ने कई महत्वपूर्ण बातें कही। 

रैली को संबोधित करते मुलायम सिंह यादव

मुलायम सिंह यादव के संबोधन की खास बातें

1. हम और मायावती लंबे समय के साथ एक मंच पर आए हैं। मैं सभी से कहना चाहूंगा कि मायावती जी का सम्मान करना, हम उनका एहसान कभी नहीं भूल पाएंगे।

2.  मायावती जी ने हमारा साथ दिया है। हमें खुशी है कि हमारे समर्थन के लिए वो आई हैं।

3. आखिरी बार चुनाव लड़ रहा हूं, ज्यादा वोटों से जिताएं

4.आज देश में गरीबी बहुत है, अमीर और अमीर और गरीब और गरीब हो रहा है

5.महिलाओं की स्थिति और उनकी सुरक्षा का सवाल मैंने संसद में भी उठाया

रैली को संबोधित करती मायावती

 

मायावती के संबोधन की महत्वपूर्ण बातें

1. बीजेपी अपनी गलत नीतियों के कारण चुनाव में हारेगी, उन्होंने झूठे वादे किए और लोगों को बहलाने का काम किया

2. गेस्ट हाउस कांड के बावजूद हम साथ आए लेकिन विरोधी ऐसा नहीं चाहते थे

3. मैनपुरी की जनता मुलायम सिंह यादव को ऐतिहासिक जीत दिलाएगी

 

4. पीएम मोदी की तरह फर्जी पिछड़े वर्ग के नहीं हैं मुलायम सिंह यादव, ये असली पिछड़े वर्ग के हैं

5. मुलायम के एकमात्र उत्तराधिकारी अखिलेश यादव हैं

रैली को संबोधित करते सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव

अखिलेश यादव के भाषण की खास बातें

1. महागठबंधन की मांग नया प्रधानमंत्री बने, बीजेपी ने जनता को ठगने का काम किया

2. मैनपुरी से मुलायम सिंह यादव को सबसे बड़ी जीत की सौगात देनी है

3. किसान दुखी है, युवाओं को रोजगार नहींं मिल रहा, सरकार केवल झूठे वादे कर रही है

4. वो कागज में पिछड़े हैं, हम जन्म से पिछड़े हैं

5. हमें प्रधानमंत्री की चौकी छीननी है

6.पहले पीएम मोदी चायवाला बनकर आए और अब चौकीदार बनकर आए हैं

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

Loading Poll …