महराजगंज: सिसवा के चंद्रशेखर हत्याकांड का 42 दिन बाद पर्दाफाश, 2 गिरफ्तार, 1 फरार

डीएन संवाददाता

42 दिन तक हवा में तीर चलाने के बाद अब जाकर किसी तरह महराजगंज पुलिस ने सिसवा के युवा व्यापारी चंद्रशेखर मद्देशिया हत्याकांड का खुलासा किया है। इस खुलासे के बाद भी लोग संतुष्ट नही हैं। जनता का मानना है कि पुलिस ने महज खानापूर्ति की है। इस हत्याकांड के खुलासे को लेकर पुलिस पर जनता ने जमकर दबाव बनाया। इस मामले में पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है जबकि 1 आरोपी पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया।

चंद्रशेखर हत्याकांड के  2 गिरफ्तार आरोपी
चंद्रशेखर हत्याकांड के 2 गिरफ्तार आरोपी

महराजगंज: जिले के सिसवा बाजार के बेहद चर्चित चंद्रशेखर हत्याकांड के खुलासे का पुलिस ने दावा किया है। किसी तरह गिरते -पड़ते पुलिस ने 42 दिन बाद खुलासा किया है। इस हत्याकांड के खुलासे को लेकर पुलि पर जनता का भारी दबाव था। सबसे बड़ी बात यह है कि आम जनता को पुलिस की थ्योरी पर भरोसा नही हो रहा है। लोगों को पुलि का यह खुलासा संदिग्ध लग रहा है। 

यह भी पढ़ें: चंद्रशेखर हत्याकांड का खुलासा न होने के विरोध में प्रदर्शन

पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार आरोपी प्रह्लाद (छपरा निवासी),असलम (पश्चिमी चंपारण) बिहार के रहने वाले हैं। पुलिस ने गिरफ्तार आरोपियों के पास से 1 कट्टा 315 बोर, 2 कारतूस और एक बाइक बरामद की है।

यह भी पढ़ें: सिसवा के चंद्रशेखर हत्याकांड में नया मोड़, क्राइम ब्रांच ने कईयों को उठाया

बरामद हथियार

यह भी पढ़ें: सिसवा के चंद्रशेखर हत्याकांड का खुलासा न होने से आक्रोश, सीबीसीआईडी से जांच की मांग

इस हत्याकांड का खुलासा करते हुए महराजगंज के एएसपी आशुतोष शुक्ला ने डाइनामाइट न्यूज़ को बताया कि यह घटना बाइक को ओवरटेक करने के बाद उपजे विवाद और रंजिश का नतीजा है। पुलिस के मुताबिक आरोपी असलम द्वारा चलाई गई गोली चंद्रशेखर को लग गई थी जिस कारण चंद्रशेखर की मौत हो गई।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार