लखनऊ: तकनीकी शिक्षा का कायाकल्प करेगी सरकार, पॉलिटेक्निक में होंगे कई नये कोर्सेज

डीएन संवाददाता

योगी सरकार में कैबिनेट चिकित्सा शिक्षा एवं प्राविधिक शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन ने एनेक्सी के मीडिया हाल में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर प्राविधिक शिक्षा व सरकार की 1 साल की उपलब्धियों के बारे में मीडिया से बातचीत की और सूबे में तकनीकी शिक्षा का कायाकल्प करने की घोषणा की।

लखनऊ: राज्य की पॉलिटेक्निक संस्थाओं में सराकर जल्द 6 लोकप्रिय डिप्लोमा पाठ्यक्रम को शुरू करेगी। यूपी सरकार ने तकनीकि शिक्षा का कायकल्प करने के लिये कई महत्वपूर्ण कदम उठाने की घोषणा की है। इस बात की जानकारी देते हुए प्राविधिक शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन ने कहा कि विभाग द्वारा माइनिंग, टेक्सटाइल और ऊर्जा संरक्षण पर नए डिप्लोमा पाठ्यक्रमों को शुरू किए जाने पर काम चल रहा है। माइनिंग इंजीनियरिंग कोर्स को इसी साल राजकीय पालिटेक्निक झांसी में शुरु किया जाना प्रस्तावित है।

तकनीकी शिक्षा में गुणवत्ता बढ़ायेगी सरकार

टंडन ने बताया कि प्राविधिक शिक्षा विभाग के अंतर्गत अभी प्रदेश भर में 3 तकनीकी विश्वविद्यालय, 14 इंजीनियरिंग कॉलेज, 136 राजकीय पॉलिटेक्निक और 19 अनुदानित पॉलिटेक्निक संस्थाएं संचालित हैं। इसके अलावा 4 इंजीनियरिंग कॉलेज और 38 नए पॉलिटेक्निक संस्थाएं निर्माणाधीन हैं। प्राविधिक शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन ने बताया कि तकनीकी शिक्षा को दूरदराज के इलाकों में लोकप्रिय बनाने के मकसद से 3 पॉलिटेक्निक संस्थान गोरखपुर के सहजनवा, इलाहाबाद के बारा और फाफामऊ में और 2 महिला राजकीय पॉलिटेक्निक बस्ती और अलीगढ़ में निर्माणाधीन हैं। जबकि पॉलिटेक्निक संस्थाओं में शिक्षा ग्रहण करने वाली छात्राओं  के हॉस्टल के लिए 15 नए गर्ल्स हॉस्टल की स्थापना को मंजूरी देते हुए धनराशि जारी की गई है। वहीं पॉलिटेक्निक संस्थानों में तकनिकी शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार के लिए 2 हजार के लगभग कंप्यूटर खरीदे जा रहे हैं।

महानिदेशक प्राविधिक शिक्षा का नया पद

प्राविधिक शिक्षा मंत्री ने बताया कि डिग्री और डिप्लोमा कोर्सेज के बीच बेहतर तालमेल बनाने के लिए महानिदेशक प्राविधिक शिक्षा का नया पद सरकार ने सृजित किया किया है, जो कि IAS संवर्ग का होगा और जल्द ही इस पद पर तैनाती की जाएगी। उन्होंने बताया कि राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेजों में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार के लिए प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर और असिस्टेंट प्रोफेसरों के सालों से खाली पड़े पदों पर 280 उम्मीदवारों की भर्तियां की गई है। 

इनोवेशन को बढ़ावा देने के लिए आईआईटी और एचबीटीयू और आईआईटी व एकेटीयू के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए हैं। वहीं यूपी के 33 राजकीय पॉलिटेक्निक संस्थाओं में विद्यार्थियों को निशुल्क डाटा उपलब्ध कराने के लिए वाईफाई सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है।

तकनीकी शिक्षा में छात्राओं की संख्या बढ़ाने के लिए प्रोत्साहन राशि

टंडन ने बताया कि छात्राओं में तकनीकी शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए 'सक्षम बालिका-संपन्न परिवार योजना' के अंतर्गत डिप्लोमा सेक्टर में 2017-18 में 2000 से अधिक मेधावी छात्राओं को 10-10 हजार रुपए की नगद प्रोत्साहन राशि दी गई। वहीं 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना' के अंतर्गत तकनीकी पाठ्यक्रमों में प्रवेश लेने वाली सौ टॉप मेधावी छात्राओं को टैबलेट बांटा गया। उन्होंने बताया कि स्टूडेंट्स की समस्या के निराकरण के लिए एकेटीयू लखनऊ में 'स्टूडेंट सर्विस ऐप' का शुभारंभ किया गया है। जिसके माध्यम से स्टूडेंट्स घर बैठे सभी तरह के प्रमाण पत्र प्राप्त कर सकेंगे।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)