लखनऊ: पुलिस भर्ती में देरी से नाराज अभ्यर्थियों का प्रदर्शन, योगी सरकार के खिलाफ उतारा गुस्सा

डीएन ब्यूरो

राजधानी लखनऊ में आज पुलिस भर्ती परीक्षा 2015 के अभ्यर्थियों ने नियुक्ति की मांग को लेकर हजारों की तादात में हजरतगंज सहित लक्ष्मण मेला मैदान में प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने योगी सरकार से नियुक्ति देने की मांग की।


लखनऊ: राजधानी में पुलिस भर्ती परीक्षा-2015 के अभ्यर्थियों ने नियुक्ति की मांग को लेकर हजारों की तादात में हजरतगंज सहित लक्ष्मण मेला मैदान में प्रदर्शन किया। पिछले सरकार के समय में घोषित की गई रिक्तियों के परीक्षा परिणाम आज तक घोषित नहीं होने से भर्ती परीक्षा में शामिल हुए उम्मीदवारों में सरकार के प्रति भारी रोष है। उम्मीदवार भारी तादाद में लखनऊ के हजरतगंज और लक्ष्मण मेला मैदान में जुटे और इस दौरान उन्होंने योगी सरकार से नियुक्ति देने की मांग की।

योगी सरकार से नियुक्ति के लिए लगाई गुहार

पुलिस भर्ती के हजारों की तादात में उम्मीदवार जब हजरतगंज चौराहे पर पहुंचे तो वहां अराजकता का माहौल व्याप्त हो गया। इस पर शीघ्र ही पुलिस ने अभ्यर्थियों को समझा-बुझाकर लक्ष्मण मेला मैदान भेजा, जहां सरकार के रवैये से नाराज पुलिस अभ्यर्थियों ने सरकार विरोधी नारेबाजी कर सरकार के सुस्त रवैए की आलोचना की।

डाइनामाइट न्यूज़ से बातचीत करते हुए पुलिस भर्ती परीक्षा समिति के अध्यक्ष वीर बहादुर सिंह ने बताया कि पिछली सपा सरकार के समय 29 दिसंबर 2015 को 34 हजार से अधिक पदों पर सिपाहियों की भर्ती घोषित की गई थी। लेकिन कुछ कारणों से मामला कोर्ट में चला गया, जिस कारण अब तक परीक्षा का परिणाम घोषित नहीं हो पाया है। 

मामले में पुलिस भर्ती समिति के अध्यक्ष वीर बहादुर सिंह ने राज्य सरकार के अधिवक्ता पर पुलिस भर्ती परीक्षा के मामले में लापरवाही बरतने का आरोप लगाया। उन्होंने बताया कि पुलिस भर्ती परीक्षा को 3 साल से ज्यादा का वक्त हो गया लेकिन आज तक परीक्षा परिणाम घोषित नहीं हो पाया जिसकी वजह से सभी पुलिस भर्ती अभ्यर्थियों में निराशा की भावना पैदा हो रही है और उन्हें अपना भविष्य अंधकार में दिख रहा है। साथ ही उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी अपील की वह मामले में हस्तक्षेप कर पुलिस भर्ती अभ्यर्थियों को जल्द ही नियुक्ति दिलवाएं। 

वहीं मामले में पुलिस भर्ती अभ्यर्थियों ने बताया कि मामले की जानकारी कई बार यूपी के गृह सचिव अरविंद कुमार को दी जा चुकी है। लेकिन अब तक किसी भी सीनियर अधिकारी की तरफ से मामले को जल्दी निस्तारित करने के लिए कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। साथ ही उन्होंने बताया कि यदि जल्द ही सरकार ने मामले में उचित पैरवी कर पुलिस भर्ती अभ्यर्थियों को उनका हक ने दिलाया तो पुलिस भर्ती अभ्यर्थी बड़े पैमाने पर सरकार के खिलाफ आंदोलन करेंगे।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार